रामपुर में PNB अफसरों पर परेशान करने का आरोप:प्रथमा बैंक के निलंबित अफसर ने रामपुर क्षेत्रीय कार्यालय पर किया सत्याग्रह, बिना भोजन, आवास बैंक परिसर में डटे

रामपुरएक महीने पहले

पंजाब नेशनल बैंक का टॉप मैनेजमेंट प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक के एक अफसर को परेशान कर रहा है। आरोप है कि अफसर को निलंबित कर क्षेत्रीय कार्यालय रामपुर में अटैच कर दिया गया है। जांच के दौरान आने जाने का भत्ता नहीं मिलने के चलते और पीएनबी, प्रथमा बैंक के टॉप मैनेजमेंट के खिलाफ बैंक अफसर सत्याग्रह पर अड़ गया है। बैंक अफसर ने क्षेत्रीय कार्यालय परिसर में ही बोरिया, बिस्तर बिछा लिया।

अयोध्या निवासी डैनियल कुमार सिंह प्रथमा बैंक में स्केल-1 ऑफिसर हैं। डैनियल सिंह ने गोंडा ब्रांच परास में तैनाती के दौरान वर्ष 2017 में बैंक मैनेजर रहने के दौरान आवाज उठाई कि वित्तीय लेनदेन का पासवर्ड हर बार 1 महीने से पहले नहीं बदला जा सकता, जबकि ऐसी व्यवस्था नहीं होनी चाहिए। जब भी संदेह हो पासवर्ड फौरन बदला जाना चाहिए।

पासवर्ड बदलने के तरीके पर उठाए थे सवाल

पासवर्ड बदलने के लिए पूरा एक महीना लगता था जिसका स्क्रीन पर मैसेज भी आता था। शिकायत के बाद पासवर्ड बदलने की व्यवस्था ठीक कर दी गई। यह किसके आदेश से ठीक हुआ इसका खुलासा आरटीआई से भी नहीं हो सका। डैनियल ने रामपुर की शाखा शाहबाद में तैनाती के दौरान एक ऐप बनाया, जिससे बैंक ग्राहकों और मैनेजमेंट के बीच सामंजस्य स्थापित हो सके। इसकी उन्होंने बैंक के संज्ञान में लाकर अनुमति ली। यहीं एप उनकी नौकरी पर भारी पड़ गया।

सस्पेंड अफसर से अभद्रता करते बैंक अफसर।
सस्पेंड अफसर से अभद्रता करते बैंक अफसर।

ग्रीवांस सेल और एप बनाना पड़ा भारी

डैनियल सिंह ने जस्टिस फॉर बैंकर्स फाउंडेशन के नाम से एक ट्रस्ट बनाया, जिसमें कर्मचारियों के ग्रीवेंस का निपटारा किया जा सके। बिना अनुमति एप और ट्रस्ट बनाने के आरोप में डैनियल सिंह को रामपुर शाखा शाहबाद से 14 जनवरी 2022 को निलंबित कर दिया गया और रामपुर क्षेत्रीय कार्यालय प्रथमा बैंक से संबद्ध कर दिया गया।

अयोध्या से रामपुर आने का नहीं दिया यात्रा भत्ता

साथ ही आदेश दिया गया कि जांच में सहयोग करने के लिए उन्हें क्षेत्रीय कार्यालय पर रहना होगा। इसके लिए डैनियल सिंह ने अयोध्या से क्षेत्रीय कार्यालय रामपुर तक आने जाने का यात्रा भत्ता मांगा, जो नहीं दिया गया।

क्षेत्रीय कार्यालय प्रबंधक पर धक्के मारने का आरोप

डैनियल सिंह ने बीते शनिवार की सुबह क्षेत्रीय कार्यालय में जांच में सहयोग को पहुंचे और अयोध्या से बार-बार जांच के लिए आना संभावना न होने के चलते बैंक परिसर में ही बैठ गए। इससे नाराज क्षेत्रीय कार्यालय प्रबंधक राजीव विश्नोई ने उन्हें बैंक के बाहर धक्के देकर निकाल दिया और अभद्रता की।

पुलिस ने मनाकर तुड़वाया अनशन

इस पर डैनियल सिंह ने बैंक परिसर के गेट पर ही अपना बोरिया बिस्तर लगा लिया। इससे नाराज होकर क्षेत्रीय प्रबंधक ने पुलिस बुला ली। मौके पर पहुंचे उपनिरीक्षक ने उन्हें समझा-बुझाकर अपना सत्याग्रह बंद करने का आग्रह किया। इस पर डैनियल सिंह ने अपना सत्याग्रह मध्य रात्रि 1 बजे समाप्त किया।

PNB के टॉप मैनेजमेंट पर प्रताड़ना का आरोप

थाडैनियल सिंह ने बताया कि वर्ष 2017 के जिन कारणों को दिखाकर सस्पेंड किया गया है, वह समस्या का मूल नहीं हैं, बल्कि दुर्भाग्य है कि प्रथमा यूपी ग्रामीण बैंक का मैनेजमेंट पंजाब नेशनल बैंक के टॉप मैनेजमेंट के हाथों में है। आरबीआई से अपनी गलतियों के लिए माफी मांगने की अपील करने से नाराज टॉप मैनेजमेंट द्वेष भावना के साथ उनका मानसिक, आर्थिक और शारीरिक उत्पीड़न कर रहा है।

उठाया था सफाई कर्मियों के कम वेतन का मुद्दा

दरअसल उन्होंने बैंक में सफाई कर्मियों से बिना पैरोल के बैंक के दिनभर सारे काम कराए जाने और उन्हें मामूली वेतन देने की शिकायत की थी। इससे पीएनबी का टॉप मैनेजमेंट नाराज है। उन्हें वर्ष 2017 के कारणों को दिखाकर परेशान करने के लिए तमाम तरह के हथकंडे अपना रहा है। क्षेत्रीय प्रबंधक राजीव विश्नोई ने इस विषय में बात करने से इंकार कर दिया।

खबरें और भी हैं...