टैक्स चोरी का आरोपी प्रणय अनेजा भगोड़ा घोषित:CBI सेंट्रल कोर्ट लखनऊ ने वारंट जारी किया, सहारनपुर की टपरी शराब फैक्ट्री के 35 करोड़ घपले में है फरार

सहारनपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दिल्ली की स्वामी नगर कॉलोनी में SIT ने प्रणय अनेजा के दिल्ली स्थित आवास पर जाकर कोर्ट का आदेश तामील किए जाने की मुनादी करवाई।  - Dainik Bhaskar
दिल्ली की स्वामी नगर कॉलोनी में SIT ने प्रणय अनेजा के दिल्ली स्थित आवास पर जाकर कोर्ट का आदेश तामील किए जाने की मुनादी करवाई। 

सहारनपुर के टपरी स्थित देशी शराब फैक्ट्री (को-आपरेटिव कंपनी लिमिटेड) द्वारा 35 करोड़ की एक्साइज चोरी के मामले में बुधवार को कंपनी के मुख्य आरोपी प्रणय अनेजा को फरार घोषित कर दिया गया। सीबीआई के सेंट्रल कोर्ट लखनऊ ने प्रणय की गिरफ्तारी का वारंट जारी करते हुए उस पर 50 हजार का इनाम घोषित किया है। जिसके बाद SIT (विशेष जांच दल) ने प्रणय अनेजा के दिल्ली स्थित आवास पर जाकर कोर्ट का आदेश तामील किए जाने की मुनादी करवाई।

फर्जी QR कोड से की थी 35 करोड़ की टैक्स चोरी
स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम (SIT) ने 4 मार्च 2021 को सहारनपुर के टपरी स्थित देशी शराब की फैक्ट्री द्वारा 35 करोड़ रुपये के राजस्व की चोरी का खुलासा किया था। जांच में दोहरी ट्रिप और नकली बार व क्यूआर कोड बनाकर करोड़ों की टैक्स चोरी की गई थी। इस मामले में पहले से गिरफ्तार 9 आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र भी कोर्ट में दाखिल किया जा चुका है।

देहात कोतवाली में 2 मुकदमें दर्ज कराए थे
आबकारी विभाग की शह पर टपरी स्थित देशी शराब फैक्ट्री में टैक्स चोरी का खेल चल रहा था। मामले का खुलासा होने के बाद सहायक आयुक्त आबकारी प्रवर्तन मेरठ आरिफ जमील ने देहात कोतवाली में 2 मुकदमे दर्ज कराए थे। दोनों में को-ऑपरेटिव कंपनी लिमिटेड के मालिक प्रणव अनेजा समेत 16 लोगों को नामजद किया गया था। FIR में कहा गया है कि प्रणव अनेजा अपनी कंपनी के सेल्स हेड, असिस्टेंट एक्साइज कमिश्नर आबकारी प्रवर्तन जगराम और आबकारी निरीक्षक अरविद कुमार के साथ मिलकर टैक्स चोरी कर रहे थे। नामजद आरोपियों में 8 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

ऐसे करते थे टैक्स चोरी
जब भी दूसरे जिलों में शराब भेजी जाती थी तो वह एक गेट पास और एक बिल पर दो गाड़ियों को निकालते थे। यह गाड़ियां उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के बडे़ शराब ठेकेदार अजय जायसवाल, कानपुर, संभल, बदायूं आदि जिलों में भेजी जाती थी। कंपनी के डुप्लीकेट बार कोड को भी एक साफ्टवेयर से डाउनलोड कर शराब की पेटियों पर चिपका दिया जाता था, ताकि यह न लगे कि एक बिल पर दो गाड़ियों को निकाला गया है।

9 आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल

  1. उपेंद्र गोविंद राव, यूनिट हेड
  2. हरिशरण तिवारी, बॉटलिंग इंचार्ज
  3. मांगेराम त्यागी, ईटीपी ऑपरेटर
  4. संजय शर्मा, असिस्टेंट मैंनेजर क्वालिटी कंट्रोल
  5. अरविंद कुमार, केमिस्ट
  6. प्रदीप कुमार, बारकोड डिस्पैचर
  7. जय भगवान, ट्रांसपोर्टर
  8. गुलशेर, ट्रक ड्राइवर
  9. अशोक कुमार, परिचालक

7 अन्य नामजद अभियुक्त

  1. प्रणय अनेजा, मैनेजिंग डायरेक्टर
  2. वीरेंद्र शंखधर, वाइस प्रेसिडेंट
  3. कमल डेनियल, वाइस प्रेसिडेंट ऑपरेशन एंड क्वालिटी कंट्रोल
  4. सोमशेखर, एचआर हेड
  5. अश्विनी उपाध्याय, सेल्स हेड
  6. सत्यवान, ट्रांसपोर्टर
  7. अजय जायसवाल, देशी शराब गोदाम का ठेकेदार
खबरें और भी हैं...