• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Saharanpur
  • Divisional Commissioner Said; The Number Of Enrollment Of Children In The School Should Be Increased, The Officers Should Know The Reasons For The Drop Outs

सहारनपुर मंडल के बेसिक शिक्षा अधिकारियों की वर्चुअल समीक्षा बैठक:मंडलायुक्त बोले;विद्यालय में बच्चों के नामांकन की संख्या को बढ़ाया जाए, ड्राप आउट करने वालों के कारणों की जानकारी करें अधिकारी

सहारनपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वर्चुअल बैठक लेते मंडलायुक्त � - Dainik Bhaskar
वर्चुअल बैठक लेते मंडलायुक्त �

सहारनपुर में मंडलायुक्त लोकेश एम.ने मंडल के सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों की मिशन प्रेरणा को लेकर सोमवार शाम को वर्चुअल समीक्षा बैठक की। उन्होंने कहा कि विद्युत विभाग तथा पंचायती राज विभाग के साथ समन्वय स्थापित कर सभी विद्यालयों में विद्युत कनेक्शन लगवाए। उन्होंने बच्चों के नामांकन की संख्या को बढ़ाए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने BSA से ऐसे बच्चों की रिपोर्ट प्रत्येक सोमवार को मांगी है, जो बच्चे स्कूल नहीं जा रहे थे और अधिकारियों ने उनका दाखिला स्कूल में कराया है। या स्कूल से ड्राप आउट करने का कारण से जिन्होंने विद्यालय छोड़ दिया था। उन्होंने कडे निर्देश दिए कि विद्यालयों में शौचालय की साफ-सफाई और शुद्ध पेयजल की व्यवस्था में ढिलाई बर्दाश्त नहीं की जाएगी।
बच्चों की कम उपस्थिति का पता लगाए
मंडलायुक्त ने कहा कि विद्यालयों में मिड डे मिल शेड और हैंडवॉश का उचित प्रबंध किया जाए। प्राथमिक विद्यालयों में फर्नीचर की कमी को तत्काल दूर किया जाए। उन्होंने कहा कि विद्यालयों में बच्चों की उपस्थिति कम पाए जाने पर उसके कारणों का पता लगाया जाए और बच्चों की समय से उपस्थिति की व्यवस्था की जाए। उन्होंने कहा कि विद्यालयों में स्मार्ट बोर्ड लगाए जाएं पर परंपरागत बोर्ड भी प्रयोग में लाते रहें। उन्होंने कहा कि विद्यालयों में उच्च गुणवत्ता वाली चॉक का ही प्रयोग किया जाए। उन्होंने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी मिशन प्रेरणा के अंतर्गत होने वाले कार्यों की साप्ताहिक प्रगति रिपोर्ट सहायक निदेशक बेसिक के माध्यम से प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।
कोविड नियमों का कड़ाई से हो पालन
मंडलायुक्त ने कहा कि विद्यालयों में शिक्षकों द्वारा कोविड के नियमों का कड़ाई से अनुपालन किया जाए तथा बच्चों से भी अनुपालन कराया जाए। उन्होंने कहा कि बच्चों के साथ शिक्षक भी स्कूल में समय से उपस्थित होने चाहिए। उन्होंने कहा कि मिड-डे मिल में प्रयोग होने वाली सामग्री की गुणवत्ता चैक करने के बाद ही वितरित कराई जाए। उन्होंने कहा कि दिव्यांग शौचालयों में केवल औपचारिकता न की जाए। शत-प्रतिशत मानकों को पूरा करते हुए ही दिव्यांग शौचालयों का निर्माण कराया जाए।
यह रहे मौजूद
बैठक में अपर निदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अनीता जोशी, उप निदेशक पंचायत हरिकेश बहादुर, सहायक निदेशक बेसिक योजराज सिंह, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी सहारनपुर अंबरीष कुमार, मुजफ्फरनगर से मायाराम, शामली से गीता वर्मा, डायट प्राचार्य राज सिंह यादव तथा जिला कार्यक्रम अधिकारी आशा त्रिपाठी सहित सभी वरिष्ठ अधिकारी वर्चुअल मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...