बिजली एसएसओ से मारपीट के मामले ने पकड़ा तूल:सहारनपुर में बिजली कर्मियों ने मुख्य बिजली घर पर किया प्रदर्शन, पुलिस पर लगाया कार्रवाई न करने का आरोप

सहारनपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
18 अगस्त को एसएसओ संजय कुमार के साथ बिजली घर में घुसकर एक दर्जन अज्ञात लोगों ने लाठी-डंडों से मारपीट की थी। - Dainik Bhaskar
18 अगस्त को एसएसओ संजय कुमार के साथ बिजली घर में घुसकर एक दर्जन अज्ञात लोगों ने लाठी-डंडों से मारपीट की थी।

देवबंद के मुख्य बिजलीघर में घुसकर कर्मचारी के साथ 10 दिन पूर्व हुई मारपीट हुई थी। पुलिस द्वारा आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई न करने के मामले ने तूल पकड़ता जा रहा है। शनिवार को विद्युत कर्मचारी सापला रोड स्थित बिजलीघर के बाहर धरने पर बैठक गए है। विद्युत कर्मचारियों ने आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की।
बिजलीघर में घुसकर की थी मारपीट
उत्तर प्रदेश बिजली कर्मचारी संघ के क्षेत्रीय अध्यक्ष जय कुमार ने कहा कि 18 अगस्त को एसएसओ संजय कुमार के साथ बिजली घर में घुसकर एक दर्जन अज्ञात लोगों ने लाठी-डंडों से मारपीट की। जिससे उनका परिवार आजतक डरा सहमा हुआ है। उन्होंने कहा कि बिजली कर्मचारियों के प्रति पुलिस प्रशासन के उदासीन रवैये को सहन नहीं किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि अगर पुलिस द्वारा आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं की गई तो उत्तर प्रदेश बिजली कर्मचारी संघ अग्रिम आंदोलन की रणनीति बनाने पर बाध्य होगा। उन्होंने कहा कि बिजली कर्मचारी को असहाय न समझा जाए और उनकी सुरक्षा के लिए प्रशासन द्वारा पुख्ता इंतजाम किए जाएं। उन्होंने कहा कि किसी दबाव के चलते पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर रही है लेकिन बिजली कर्मचारी जब तक आरोपियों के खिलाफ पुलिस ठोस कार्रवाई नहीं करती तब तक चैन से नहीं बैठेंगे।

धरना प्रदर्शन में राजेंद्र प्रसाद, मनोज शर्मा, योगेश कुमार, जगदीश प्रसाद, राजवीर सिंह, अशोक कुमार, दीपक कुमार, मनोज नौटियाल, लक्ष्मण सिंह, संजय कुमार, ओमपाल सिंह, अजीत कुमार, अशोक कुमार, भानु प्रताप आदि मौजूद रहे।
यह था पूरा मामला
विगत 18 अगस्त को रात में SSO संजय कुमार मुख्य बिजली घर पर ड्यूटी पर थे, उसी समय गंदा आसपुर गंगदासपुर के करीब 12 से ज्यादा लोग बिजली घर पहुंचे और संजय कुमार के साथ लाठी-डंडों में पैरों से मारपीट की। इस मामले में संजय कुमार ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा कायम कराया था। जिसमें पुलिस द्वारा आज तक किसी एक आरोपी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया ।
डर के साए में जी रहा परिवार
पीड़ित संजय कुमार का कहना है कि वह पूर्वांचल के हैं और देवबंद क्षेत्र के लोगों को ठीक से जानते पहचानते भी नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकारी कर्मचारियों का किसी से कोई द्वेष नहीं होता और जिस प्रकार से उनके साथ मारपीट की गई। उसे लेकर उनका पूरा परिवार डरा सहमा हुआ है। आरोप है कि उन्हें लगातार धमकी मिल रही है जिससे उनका परिवार खौफ के साए में जी रहा है।

खबरें और भी हैं...