• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Saharanpur
  • Eyesight Lost After Cataract Operation Doctor Negligence In Saharanpur Another Patient Is Undergoing Treatment In AIIMS For 15 Days UP Today News Updates

ऑपरेशन के बाद 27 नहीं, और लोगों की गई रोशनी:सहारनपुर में डॉक्टर की लापरवाही, एक और मरीज AIIMS में 15 दिनों से करा रहा इलाज

सहारनपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मरीज अंतु राम बोले- आंख में पस बना तो डॉक्टर ने AIIMS दिल्ली रेफर कर दिया। - Dainik Bhaskar
मरीज अंतु राम बोले- आंख में पस बना तो डॉक्टर ने AIIMS दिल्ली रेफर कर दिया।

सहारनपुर के जिला अस्पताल में मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद 27 लोगों की आंख की रोशनी चली जाने का मामला सामने आया था। दैनिक भास्कर ने मामले का खुलासा किया जिसमें इसके बाद और भी मरीज सामने आने लगे हैं। 90 साल के बुजुर्ग अंतु राम ने फोन कर बताया कि उनकी आंखों का ऑपरेशन भी 2 दिसंबर को SBD अस्पताल में हुआ था। इसके बाद दिखाई देना बंद हो गया। अब वह दिल्ली के AIIMS में अपना इलाज करा रहे हैं।

अंतु राम ने बताया कि ऑपरेशन के एक दिन बाद से ही आंखों में तकलीफ शुरू हो गई थी। पहले जलन और उसके बाद आंखों में सूजन आ गई। जिला अस्पताल में ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर को दिखाया तो डॉक्टर ने कहा, जल्द ही ठीक हो जाएगा। इसके बाद तकलीफ बढ़ती गई। आंखें सूजती गईं। बाद में आंखों में मवाद (पस) भी आ गया।

मरीज अंतु राम का सहारनपुर के जिला अस्पताल का पर्चा।
मरीज अंतु राम का सहारनपुर के जिला अस्पताल का पर्चा।

सरकारी डॉक्टर ने AIIMS रेफर किया
जब अंतु राम की आंख की दिक्कत बढ़ी तो तो वह फिर से जिला अस्पताल की ओपीडी में पहुंचे। डॉक्टर ने उन्हें AIIMS दिल्ली के लिए रेफर कर दिया। हालांकि पर्चे पर स्वेच्छा से रेफर लिखा हुआ है। अंतु ने बताया कि उनका इलाज दिल्ली के AIIMS में करीब 15 दिनों से चल रहा है।

2 और 3 दिसंबर की ओटी में इंफेक्शन
हैरानी की बात यह है कि जिला अस्पताल की OT में हर दिन 10 से 20 लोगों की आंख के ऑपरेशन होते हैं। ऐसा क्या कारण रहा कि 2 और 3 दिसंबर को ऑपरेशन कराने वाले मरीजों की आंखों में इंफेक्शन फैल गया। स्वास्थ्य अधिकारियों का तर्क है कि 2 और 3 दिसंबर के बाद भी लगातार ऑपरेशन हो रहे हैं। लेकिन, कोई केस सामने नहीं आया है।

शासन स्तर से भी मांगी गई रिपोर्ट
स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के अनुसार, 27 लोगों की आंखों की रोशनी चली जाने पर प्रदेश सरकार ने स्वास्थ्य विभाग से जल्द ही रिपोर्ट मांगी है। बताया जा रहा है कि 2-3 दिनों में लखनऊ से भी टीम जांच के लिए आ सकती है।

सीएमओ डॉ. संजीव मांगलिक का कहना है कि लोकल स्तर पर मामले की जांच के लिए 5 सदस्य की कमेटी बनाई गई है। कमेटी एक सप्ताह में अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। टीम में मेडिकल कॉलेज, जिला अस्पताल, आईएमए के चिकित्सक जांच करेंगे।

खबरें और भी हैं...