मालखाने से आठ लाख गबन में दो पुलिसकर्मियों पर FIR:थाना सदर बाजार में हैड मोहर्रिर के खिलाफ एफआईआर हुई, 13 साल पहले छापेमारे में बरामद किए थे नौ लाख 500 रुपये

सहारनपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो

सहारनपुर के थाना सदर बाजार के मालखाने से 8 लाख 10 हजार रुपये के गबन के आरोप में दो पुलिसकर्मियों पर FIR दर्ज हुई है। गबन के आरोप में थाने के तत्कालीन दो हैड मोहर्रिर अनिल कुमार और बिजेंद्र की संलिप्तता पाई गई है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

13 साल पुराना है मामला
मेरठ की ब्रह्मपुरी कॉलोनी की रहने वाली पूनम 30 अप्रैल 2022 को सीजेएम अनिल कुमार की कोर्ट में दावा करती है। बताती है कि वह 2009 में थाना सदर बाजार की वैशाली विहार रहते थे। 20 अगस्त की रात को पुलिस ने छापेमारी की थी। आरोप लगाया कि पुलिस ने उसके पति मुकेश कुमार को जुए के झूठे मुकदमे में फंसा दिया था। घर मे कारोबार के 9 लाख 500 रुपये भी जबरन अलमारी से निकालकर जबरन जब्त करके थाने ले गई और पति मुकेश कुमार को भी गिरफ्तार कर लिया था।

महिला की शिकायत पर हुआ खुलासा
महिला की शिकायत पर कोर्ट ने संज्ञान लिया। मामले की जांच कराई। तो पुलिसके भी होश उड़ गए। मालखाने में तो रुपये थे ही नहीं बल्कि कागजों में गायब थे। यानी मालखाने के कागजात में मात्र 90 हजार 500 रुपये ही जमा की राशि ही जमा मिली। कोर्ट ने सहारनपुर एसएसपी विपिन टाडा को जांच के आदेश दिए थे। थाने के मालखाने से आठ लाख 10 हजार रुपये गायब होना चर्चा का विषय बना हुआ था।

9 लाख से रह गए 90 हजार
इंस्पेक्टर ने कोर्ट में जवाब दिया था कि मालखाने के रजिस्ट्रार ओवर राइटिंग की गई है। 9 लाख रुपये को ओवर राइटिंग कर 90 हजार रुपये बनाया गया है। 2009 में मालखाने के इंचार्ज अनिल कुमार थे। एएसपी प्रीति यादव ने मामले की जांच की। जांच में इस पूरे प्रकरण में थाने में तैनात रहे दो हैडमोहर्रिर अनिल कुमार और बिजेंद्र की संलिप्ता सामने आई। इंस्पेक्टर सदर बाजार की तहरीर पर अनिल कुमार और बिजेंद्र सिंह सरकारी लेखों में हैराफेरी और गबन के आरोप में मुकदमा दर्ज कर दिया है।

रिपोर्ट भेजकर अनिल कुमार को कराया सस्पेंड
एसएसपी डॉ. विपिन ताडा का कहना है कि मामले में अनिल कुमार की संलिप्तता सबसे अधिक है। वह वर्तमान में मुजफ्फरनगर में तैनात थे। मुजफ्फरनगर एसएसपी को रिपोर्ट भेजकर सस्पेंड करा दिया गया है। विवेचना के बाद सख्त कार्रवाई की जाएगी।