गंगोह से बसपा ने उतारा नोमान मसूद को:पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने किया ट्वीट; दो बार चुनाव लड़ चुके हैं नोमान

सहारनपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बसपा सुप्रीमो मायावती द्वारा किया गया ट्वीट - Dainik Bhaskar
बसपा सुप्रीमो मायावती द्वारा किया गया ट्वीट

सहारनपुर की गंगोह विधानसभा सीट से बसपा ने इमरान मसूद के जुड़वां भाई नोमान को टिकट दिया है। गुरुवार को बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। नोमान 6 महीने पहले रालोद में शामिल हुए थे। इसके बाद जब टिकट पर कोई सहमति बनती दिखाई नहीं दी, तो वह बसपा में चले गए।

गंगोह सीट पर काजी और चौधरी परिवार का वर्चस्व रहा है। दोनों ही परिवार एक-दूसरे के धुर राजनीतिक विरोधी रहे हैं। मगर, इस बार फिर दोनों परिवारों में आमने-सामने का पाला खिंच गया है। इस बार दूसरे प्रत्याशी को जिताने के लिए भाई-भाई के खिलाफ प्रचार करेगा।

मुस्लिम और दलित बाहुल्य सीट है गंगोह
सहारनपुर की राजनीति की राजधानी कहे जाने वाली गंगोह सीट पर 3.85 लाख मतदाता हैं। इनमें मुस्लिम 1.25 लाख और दलित 70 हजार हैं। गंगोह का काजी और चौधरी परिवार यूपी चुनाव में अहम भूमिका में हमेशा से रहा है। काजी परिवार से काजी रशीद केंद्र में स्वास्थ्य मंत्री रहे, जबकि चौ. यशपाल सिंह केंद्र में कृषि मंत्री रहे। दोनों दिग्गजों का निधन हो चुका है। मगर, दोनों ही परिवार अब अपनी-अपनी विरासत को बचाने में लगे हैं।

सपा और बसपा दोनों घरानों के प्रत्याशी उतारेगी गंगोह विधानसभा सीट पर 2017 में चुनाव में भाजपा प्रत्याशी प्रदीप चौधरी ने काजी और चौधरी परिवार को हराया था। प्रदीप चौधरी को 99,446 (38.6%) वोट मिले थे। वहीं काजी परिवार के नोमान मसूद को 61,418 (23.9%) और चौधरी परिवार के इंद्रसेन को 47,219 (18.4%) वोट मिले थे। जबकि बसपा प्रत्याशी महीपाल सिंह माजरा को 44,717 (17.4%) वोट मिले थे। नोमान दूसरे नंबर पर रहे थे। 2022 के विधानसभा चुनाव में सपा चौधरी परिवार के इंद्रसेन को टिकट दे सकती है। वहीं बसपा ने काजी परिवार के नोमान मसूद का टिकट फाइनल कर दिया है।

मुस्लिम वोटों में होगी सेंधमारी काजी परिवार के इमरान मसूद सपा में शामिल होकर न सिर्फ कांग्रेस पार्टी को झटका दिया है, बल्कि अपने जुड़वां भाई नोमान मसूद के सामने भी खड़े हो गए हैं। चौधरी परिवार के प्रत्याशी को जिताने के लिए काजी परिवार का बेटा प्रचार करेगा। काजी परिवार के ही दूसरे बेटे नोमान मसूद को हराने के लिए पूरा जोर लगाएंगे। वहीं भाजपा भी फिर से 2017 के प्रत्याशी को दोबारा मैदान में उतार सकती है।

2012 विधानसभा चुनाव पर एक नजर
2012 में हुए विधानसभा चुनाव में इस सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी प्रदीप चौधरी विजयी हुए थे। उन्होंने समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी रुद्र सेन को हराया था। इस चुनाव में प्रदीप कुमार को 65,149 वोट, जबकि दूसरे नंबर पर रहे सपा प्रत्याशी रुद्र सेन को 61,126 वोट मिले थे। तीसरे नंबर पर बसपा प्रत्याशी शगुफ्ता खान को 41,110 वोट और चौथे नंबर पर निर्दलीय प्रत्याशी नाहिद हसन को 33,288 वोट मिले थे। 5वें नंबर पर भाजपा की प्रत्याशी शशिबाला पुंडीर को 15,357 वोट मिले थे।

खबरें और भी हैं...