पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डेंगू-मलेरिया और कोरोना के मरीजों का होगा सर्वे:सहारनपुर में 7 से 17 सितंबर तक घर-घर जाएगी स्वास्थ्य विभाग की टीम, लोगों का हेल्थ चेकअप करेगी

सहारनपुर20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लोगों को डेंगू, मलेरिया और कोरोना से बचाने के लिए सर्वे कराया जाएगा। CMO डा.संजीव मांगलिक ने प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को CHC व PHC में आने वाले मरीजों का इलाज गंभीरता से कराने का निर्देश दिया है। - Dainik Bhaskar
लोगों को डेंगू, मलेरिया और कोरोना से बचाने के लिए सर्वे कराया जाएगा। CMO डा.संजीव मांगलिक ने प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को CHC व PHC में आने वाले मरीजों का इलाज गंभीरता से कराने का निर्देश दिया है।

सहारनपुर के टपरी कलां गांव में अनजान बुखार से चार लोगों की जान चली गई है। गांव का नाम लगातार सुर्खियों में होने की वजह से जिला प्रशासन से लेकर स्वास्थ्य विभाग में अफरा तफरी मची हुई है। 1 सितंबर से लगातार स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी गांव में डेरा डाले हुए हैं। समय-समय पर लोगों के घर पहुंचकर उनका हाल जान रहे हैं।

जिले भर में डेंगू, मलेरिया व वायरल फीवर के मरीजों की पहचान के लिए 7 से 17 सितंबर तक डोर टू डोर सर्वे कराया जाएगा। लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा।

रविवार के एडी हेल्थ डा.अनिता जोशी, सीएमओ डा.संजीव मांगलिक ने स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ टपरी कलां गांव का निरीक्षण किया और अपने सामने 10 लोगों की स्लाइड बनवाई।

डेंगू, मलेरिया और कोरोना के मरीजों का सर्वे होगा

लोगों को डेंगू, मलेरिया और कोरोना से बचाने के लिए सर्वे कराया जाएगा। CMO डा.संजीव मांगलिक ने प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को CHC व PHC में आने वाले मरीजों का इलाज गंभीरता से कराने का निर्देश दिया है। नगर निगम और नगर पालिका क्षेत्र में रोजाना एंटीलार्वा और फॉगिंग कराने को कहा गया है। लोगों से घरों के आसपास पानी जमा न होने देने कीअपील की है।

कीटनाशक युक्त मच्छरदानी का प्रयोग करें

DMO शिवांका गौड ने लोगों से अपील की है कि वे अपने-अपने घर व आस-पास पानी से भरे बर्तन जैसे कूलर, गमले, छतों पर रखें पुराने टायर, फ्रिज की ट्रे आदि में एक हफ्ते से ज्यादा समय तक पानी जमा न होने दें। उन्होंने कहा कि ऐसे सभी बर्तनों को खाली कराए। क्योंकि उसमें मच्छर पैदा होते हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों को पूरी आस्तीन की कमीज और पैंट पहनाएं। कीटनाशक युक्त मच्छरदानी का प्रयोग करें। डेंगू रोग को फैलाने वाला मच्छर शहरी, अर्ध शहरी आबादी वाले मकानों में पाया जाता है।

गंदी नालियों में यह मच्छर नहीं रहता है। यह मच्छर घरों में साफ इक्ट्ठा पानी में अपने अण्डे देता है। घरों के अन्दर ये पानी कूलर, छत पर खुली टंकियां, टीन के खाली डिब्बे, पुराने टायर, गमले, खाली बोतलें, सिस्र्टन, मनी प्लान्ट के गमले आदि में जहां पर पानी अस्थाई रूप से एकत्रित रहता है वही पर प्रजनन कर अपनी संख्या बढाता है।

डेंगू व मलेरिया से सावधानी
तेज बुखार होने पर पैरासीटामोल की गोली ले सकते हैं। ठंडे पानी से शरीर को पोछे। डेंगू उपचार के लिए कोई खास दवा अथवा बचाव के लिये कोई वैक्सीन नहीं है। औषधियों का सेवन चिकित्सकों की सलाह से करें। गंभीर मामलों के लक्षण जैसे (खून आना) होने पर चिकित्सालय में तुरंत संपर्क करें। एस्प्रीन व स्टीराइड दवाइयों का सेवन नहीं करना चाहिए। डेंगू रोगी को मच्छरदानी का प्रयोग अवश्य कराए।

खबरें और भी हैं...