• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Saharanpur
  • High Court Advocates Said, The Action Of Confiscation Of Property Disregarded The Orders Of The High Court, Criminal Anticipatory Bail Was Received On May 12

हाजी इकबाल की 107 करोड़ की प्रॉपर्टी जब्त:पूर्व MLC के वकील ने कहा- संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई हाईकोर्ट के आदेशों की अवहेलना

सहारनपुर13 दिन पहले

सहारनपुर में पुलिस ने खनन माफिया पूर्व MLC हाजी इकबाल की 125 और बेनामी संपत्ति कुर्क कर ली है। कुर्क की गई संपत्ति की कीमत 107 करोड़ रुपए बताई गई है। गैंगस्टर एक्ट 14(1) के अंतर्गत कुर्क की गई करीब 1350 बीघा जमीन पर पुलिस ने राजस्व विभाग की टीम के साथ कब्जा लेने की कार्रवाई शुरू कर दी है। जब्त की गई संपत्ति में मिर्जापुर में स्थित हाजी इकबाल की ग्लोकल यूनिवर्सिटी की भी जमीन है, जिसे उसने फर्जी तरीके से ट्रस्ट के नाम कराया था। पुलिस अभी तक हाजी इकबाल की 174 बेनामी संपत्तियों को जब्त कर चुकी है, जिनकी कीमत 128 करोड़ रुपये बनाई गई है।

ये तस्वीर शनिवार की है। SP देहात सूरज राय, तहसीलदार प्रकाश सिंह और CO चित्रांशु गौतम मिर्जापुर में हाजी इकबाल की संपत्ति कुर्क करने पहुंचे थे।
ये तस्वीर शनिवार की है। SP देहात सूरज राय, तहसीलदार प्रकाश सिंह और CO चित्रांशु गौतम मिर्जापुर में हाजी इकबाल की संपत्ति कुर्क करने पहुंचे थे।

खबर में आगे बढ़ने से पहले पोल में हिस्सा जरूर लें

हाजी इकबाल के खिलाफ SIT कर रही जांच
अवैध खनन के बूते अपना साम्राज्य खड़ा कर अकूत संपत्ति के मालिक बने हाजी इकबाल पर भाजपा सरकार के शासनकाल में लगातार शिकंजा कसा जा रहा है। सहारनपुर के SSP आकाश तोमर द्वारा SIT का गठन कर जांच और कार्रवाई की जा रही है। हाजी इकबाल के नौकर नसीम की करोड़ों की संपत्ति को प्रशासन ने पहले ही जब्त किया हुआ है।
SIT ने हाजी इकबाल की करीब 125 बेनामी संपत्तियों को चिह्नित किया था। इसकी कीमत 107 करोड़ बताई जा रही है। SP देहात सूरज राय के नेतृत्व में 14 मई को करीब 250 कर्मचारियों की टीम मिर्जापुर पहुंची थी। इसमें 200 पुलिस कर्मी शामिल रहे।

मिर्जापुर में मुनादी कराते हुए जिला प्रशासन और पुलिस की टीम। तस्वीर शनिवार की है।
मिर्जापुर में मुनादी कराते हुए जिला प्रशासन और पुलिस की टीम। तस्वीर शनिवार की है।

नौकर था 600 बीघे जमीन का मालिक, वह भी गिरफ्तार
हाजी इकबाल के करीबी मुंशी नसीम अहमद पर पुलिस ने पहले ही कार्रवाई कर जेल भेज दिया है। मुंशी के नाम पर 600 बीघा जमीन थी। हाजी इकबाल की सेल कंपनी द्वारा खरीदी गई तीन चीनी मिल का मालिक भी मुंशी नसीम था। हालांकि, पुलिस ने जमीन को कुर्क कर लिया है। तीन चीनी मिलों पर कार्रवाई के लिए पुलिस आगे की कार्रवाई कर रही है।

पुलिस के साथ सादे कपड़े में खड़ा व्यक्ति हाजी इकबाल का मुंशी नसीम अहमद है। उसके नाम पर 600 बीघे जमीन मिली है।
पुलिस के साथ सादे कपड़े में खड़ा व्यक्ति हाजी इकबाल का मुंशी नसीम अहमद है। उसके नाम पर 600 बीघे जमीन मिली है।

पुलिस ने बेटे को दिल्ली से पकड़ा था
हाजी इकबाल के बेटे अलीशान को सहारनपुर क्राइम ब्रांच और पुलिस टीम ने 13 मई को दिल्ली से गिरफ्तार किया था। हाजी इकबाल के मुंशी नसीम अहमद व पूर्व ब्लॉक प्रमुख राव लाईक को पहले ही पुलिस जेल भेज चुकी है। हालांकि, राव लाईक को कोर्ट से जमानत मिल गई है, जबकि जनेश्वर प्रसाद, बीरबल सिंह, संजय व सुरेंद्र जेल में है। गैंगस्टर के इस मामले में पुलिस हाजी इकबाल और उसके अन्य पुत्रों को भी तलाश कर रही है।

ये तस्वीर हाजी इकबाल के बेटे अलीशान की है। सहारनपुर क्राइम ब्रांच और पुलिस टीम ने 13 मई को उसे गिरफ्तार किया था।
ये तस्वीर हाजी इकबाल के बेटे अलीशान की है। सहारनपुर क्राइम ब्रांच और पुलिस टीम ने 13 मई को उसे गिरफ्तार किया था।

SSP ने दिए लुकआउट सर्कुलर जारी किया
पुलिस ने हाजी इकबाल और गैंग के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर (LOC) जारी किया है। ताकि वह देश छोड़ कर चुपचाप विदेश न भाग सके। पुलिस को खनन माफिया और उसके भाई के विदेश भागने की आशंका है। इसलिए यह नोटिस जारी करने की कार्रवाई की गई है। गैंगस्टर समेत कई मामलों में वांछित चल रहे हाजी इकबाल, उसके भाई पूर्व MLC महमूद अली और उसके बेटों की गिरफ्तारी के लिए SIT और पुलिस लगातार दबिश डाल रही है। सर्विलांस के जरिए भी उन्हें तलाश की जा रही है।

ग्लोकल यूनिवर्सिटी परिसर में भी हुई कार्रवाई
14 मई को ग्लोकल यूनिवर्सिटी परिसर में गांव अली अकबरपुर में अब्दुल वाहिद एजुकेशनल एंड चैरिटेबल ट्रस्ट के नाम से लगभग 150 बीघा भूमि पर कब्जा लिया गया। गांव रोशनपुर पेलो में भी इसी ट्रस्ट के नाम से 50 बीघा भूमि पर कब्जा लिया गया है। गांव टांडा में चैंपियन कंप्यूस सॉफ्ट प्राइवेट लिमिटेड के नाम से 15 बीघा भूमि को भी कब्जे में ले लिया गया है। नागल माफी गांव में मैक्स एग्रो सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड के नाम खरीदी गई भूमि पर कब्जे की कार्रवाई की गई।

ये तस्वीर ग्लोकल यूनिवर्सिटी परिसर की है। 14 मई को पुलिस की टीम यहां पर जांच के लिए पहुंची थी। यहां 150 बीघे जमीन पर कब्जा था।
ये तस्वीर ग्लोकल यूनिवर्सिटी परिसर की है। 14 मई को पुलिस की टीम यहां पर जांच के लिए पहुंची थी। यहां 150 बीघे जमीन पर कब्जा था।

हाईकोर्ट के आदेशों की अवहेलना
हाजी इकबाल पक्ष के उच्च न्यायालय के अधिवक्ता आइबी यादव की ओर से वीडियो जारी किया गया है। इसमें बताया है कि हाजी इकबाल के खिलाफ संपत्ति जब्त करने की कार्रवाई हाईकोर्ट के आदेशों की अवहेलना है। हाजी इकबाल द्वारा एक क्रिमनल एन्टीसिपेटरी बेल दाखिल की गई थी, जिसमें उच्च न्यायालय ने 12 मई 2022 को उसके पति व बेटों जावेद, अलीशान, मो. अफजाल व अब्दुल वाजिद की अग्रिम जमानत स्वीकार कर ली थी। हाजी इकबाल आदि के खिलाफ कोई भी क्रियेटिव एक्शन न लेने तथा धारा 14 ए के तहत कोई कार्रवाई न करने का आदेश पारित किया है। यहीं नहीं यदि संपत्ति को जब्त किया जाता है तो यह हाईकोर्ट के आदेशों की अवहेलना है।

आरोप है कि अग्रिम जमानत मिलने के बाद भी हाजी इकबाल के बेटे अलीशान को गिरफ्तार कर लिया गया है। वहीं हाजी इकबाल की पत्नी फरीदा बानो ने भी शासन को भेजकर अपना पक्ष रखा है। इसमें उन्होंने अपने पति की संपत्ति पर जब्तीकरण की कार्रवाई व 14ए गैंगस्टर एक्ट को हटाए जाने की मांग की है।

कुर्की रोकने के लिए नहीं मिला आदेश:एसएसपी आकाश तोमर​​​​​​​

एसएसपी आकाश तोमर का कहना है कि हाजी इकबाल के मामले में उच्च न्यायालय से कोई भी आदेश प्राप्त नहीं हुआ है। जिससे हाजी इकबाल की अवैध संपत्ति की कुर्की रोकी जाए। उच्च न्यायालय का आदेश प्राप्त होते ही उस पर अमल किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...