STF करेगी चुनाव आयोग की वेबसाइट में सेंधमारी की जांच:सहारनपुर साइबर सेल ने अपनी जांच रोकी, फरार 2 आरोपियों को STF गिरफ्तार भी करेगी, अब तक 11 पकड़े जा चुके

सहारनपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सहारनपुर में चुनाव आयोग की वेबसाइट में सेंधमारी कर निर्वाचन कार्ड बनाने की जांच अब यूपी एसटीएफ करेगी। हरिओम उर्फ हर्षा व विकेस दो आरोपियों की गिरफ्तारी भी एसटीएफ ही करेगी। इस प्रकरण में अब तक 11 आरोपी पकड़े जा चुके हैं। साइबर सेल थाने ने अपनी जांच रोक दी है। कहा जा रहा है कि एक-दो दिन में साइबर सेल पूरे दस्तावेज एसटीएफ को सौंप देगी। हालांकि अभी इसकी जानकारी नहीं मिल पायी है कि जांच एसटीएफ की लखनऊ यूनिट करेगी या मेरठ यूनिट। यह कार्रवाई शासन के निर्देश पर की गई है।
पुलिस का कहना है कि स्थानीय स्तर से कार्रवाई पूरी हो गई है। अब STF इस पूरे मामले की जांच करेगी। STF की लखनऊ या मेरठ यूनिट शनिवार को सहारनपुर आ सकती है और मुकदमें से संबंधित दस्तावेज लेकर जांच शुरू करेगी। उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान एवं दिल्ली से अब तक साइबर पुलिस ने 11 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।
यह था पूरा मामला
साइबर सेल थाना पुलिस ने 11 अगस्त को नकुड़ के मच्छरहेड़ी गांव से विपुल सैनी को चुनाव आयोग की यूजर आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल कर अवैध रूप से वोटर आईडी कार्ड बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। पूछताछ में आरोपी विपुल सैनी में मध्य प्रदेश के अपने दोस्त अरमान के साथ हरिओम और विकेश का नाम लिया था। इसके बाद पुलिस ने उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, दिल्ली और राजस्थान में कई जगह पर छापेमारी की और नौ आरोपियों विपुल सैनी, अरमान मलिक, आशीष जैन, आदित्य खत्री, दीपक मेहता, संजीव मेहता व नितिन कुमार,आकाश व अजय कुशवाह को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है। अब पुलिस इनसे पूछताछ कर अन्य राज्यों में लिंक को खंगालने में लगी है। ऐसा माना जा रहा है कि जल्द ही कुछ और राज्यों में इनके तार मिल सकते हैं। हालांकि इस मामले में कोई भी पुलिस अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।

जल्द सौंपा जाएगा दस्तावेज
एसपी सिटी राजेश कुमार का कहना है कि स्थानीय स्तर से कार्रवाई हो चुकी है। साइबर थाने भी कार्रवाई पर रोक लगा दी है। अब शासन के आदेश के बाद लखनऊ या मेरठ की STF की टीम सहारनपुर केस संबंधित दस्तावेज लेकर कार्रवाई शुरू करेगी।

खबरें और भी हैं...