ATS के मुख्य गवाह को शहर छोड़ने की धमकी:नितिन पंत धर्मांतरण मामले में है मुख्य गवाह, दरोगा पर लगाया आरोप

सहारनपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नितिन पंत का आरोप है कि मौलाना कलीम ने अपने मदरसे में रखकर उसका ब्रेनवाश किया। - Dainik Bhaskar
नितिन पंत का आरोप है कि मौलाना कलीम ने अपने मदरसे में रखकर उसका ब्रेनवाश किया।

धर्मांतरण के मामले में ATS के मुख्य गवाह नितिन पंत ने थाना मंडी पुलिस की शिकायत की है। उसने आरोप लगाया है कि थाना मंडी का एक दरोगा उसे धमका रहा है। उस पर सहारनपुर का आश्रम छोड़कर चले जाने का दबाव बनाया जा रहा है। अगर वह इस आश्रम में रहा, तो उसकी हत्या हो सकती है। पीड़ित को SSP ने जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

करीब डेढ़ महीने पहले लखनऊ ATS ने मौलाना कलीम को गिरफ्तार किया था। उस पर आरोप है कि वह युवाओं का ब्रेनवाश करके उनका धर्मांतरण कराता था। मतांतरण के उसके खिलाफ सबूत भी मिले थे। जिसमें साबित हुआ था कि इस काम के लिए मौलाना कलीम को विदेशों से फंडिंग हो रही है। उत्तराखंड के नैनीताल के तल्लीताल के रहने वाले नितिन पंत का भी 2010 में राजस्थान के मेवात में मतांतरण कराया गया था। इसके बाद उसे मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना कोतवाली क्षेत्र के गांव फूलत मदरसे में रखा गया था।

नितिन पंत ने लगाया था ब्रेनवाश करने का आरोप
नितिन पंत का आरोप है कि मौलाना कलीम ने अपने मदरसे में रखकर उसका ब्रेनवाश किया। उसने नितिन को उकसाया कि वह लड़कियों को अपने प्रेमजाल में फंसाए और उनका धर्मांतरण कराए। जिसके बाद ATS नितिन पंत को अपने साथ लखनऊ ले गई थी। करीब 15 दिन तक उसे अपने साथ रखा और उसके बयान लिए। जिसके बाद ATS ने उसको सरकारी गवाह बना लिया था। अब उसको मंडी पुलिस धमकी दे रही है कि वह शहर को छोड़ दे। SSP ने इस मामले में जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

आश्रम पर हमने का जताया शक
नितिन पंत बालाजी घाट आश्रम में हिंदू संगठन के पदाधिकारी निपुण भारद्वाज के संरक्षण में रह रहा है। इस आश्रम के पीछे दूसरे समुदाय के लोगों की कॉलोनी है। इसलिए उसने बताया कि उसके आश्रम पर कभी भी हमला हो सकता है। उसे आश्रम पर सुरक्षा की जरूरत है।

SSP आकाश तोमर का कहना है कि नितिन पंत ने मामले से अवगत कराया है। मामले की जांच कराई जाएगी। उचित कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...