PWD कार्यालय के बाहर ठेकेदारों ने दिया धरना:सहारनपुर में अधिकारी बोले- रवना ऑनलाइन में मिस मैच पर लगती है पेनल्टी

सहारनपुरएक महीने पहले
यह फोटो PDW के बाहर धरना प्रदर्शन कर रहे ठेकेदारों की है।

सहारनपुर में PWD विभाग के सड़क ठेकेदार पिछले तीन दिनों से धरने पर बैठे हैं। ठेकेदारों से PWD विभाग द्वारा खनन पर रायल्टी ली जा रही है। जिसका विरोध ठेकेदार कर रहे हैं। उन्होंने कार्य बहिष्कार किया हुआ है। ऐसे में सीएम योगी की गड्‌ढ़ा मुक्त सड़क का अभियान भी खटाई में पड़ सकता है। ठेकेदारों का आरोप है कि PWD विभाग उनसे 6% रायल्टी काट रहा है।

ठेकेदारों ने निविदाओं का किया बहिष्कार

सहारनपुर कॉन्ट्रैक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश राणा ।
सहारनपुर कॉन्ट्रैक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश राणा ।

सहारनपुर कॉट्रेंक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष राकेश राणा का कहना है कि ठेकेदारों की विभिन्न समस्याओं जैसे कि रायल्टी GST की बढ़ी हुई दरों का भुगतान नहीं हो रहा है। समय वृद्धि समय से स्वीकृत न हो पाना तथा छोटे ठेकेदारों को दृष्टिगत रखते हुए छोटी सड़कों पर सील्ड ड्रमों की दरें, दर विश्लेषण में लगाई जा रही है।

केंद्र सरकार के आदेशों का हो रहा उल्लंघन

यह फोटो PWD के ठेकेदार मनोज मित्तल की है।
यह फोटो PWD के ठेकेदार मनोज मित्तल की है।

ठेकेदारों का कहना है कि यूपी में भी ठेका प्रक्रियाओं में एकरूपता रखनी चाहिए। निविदाएं शून्य धरोहर राशि व अनुबंध 3% पर बनाई जानी चाहिए। जैसे केंद्र सरकार द्वारा 31 दिसंबर 2022-23 का आदेश किया हुआ है। ठेकेदारों के भुगतान से पार्ट द्वितीय व पार्ट पंचम में डिपॉजिट में रोकी गई।

धनराशि का भी शीघ्र अति शीघ्र हमारी SDR लेकर भुगतान की मांग की। ठेकेदारों का कहना है कि जब तक उनकी मांगों का निराकरण नहीं हो जाता निविदाओं का बहिष्कार और धरना प्रदर्शन जारी रहेगा।

धरना प्रदर्शन में राकेश राणा अध्यक्ष, राजकुमार त्यागी सचिव, गफ्फार अहमद, मनोज मित्तल, मनोज त्यागी, रविन्द्र कुमार, रवित त्यागी, अनुराग त्यागी, पवन कुमार, डी. पी. मित्तल, अनिल कुमार गुप्ता, इरशाद अहमद, प्रदीप कुमार राणा, अतर सिंह, विजय पाल, सुनित कुमार, राकेश कुमार सैनी, गुलशन कुमार, विपिन कुमार, अनमोल मल्होत्रा, जिशान मलिक, नदीम खान, दानिश आदि।

रवना हो जाता है मिस मैच
अधीक्षण अभियंता सीपी सिंह का कहना है, ज्यादातर ठेकेदार रवना पुराना या फिर भुगतान हुआ जाम कराता है। ऑनलाइन में जो डेटा फीड नहीं हो पाता है। ऐसे में पेनल्टी की श्रेणी में आ जाता है। जिस कारण ठेकेदार पर 6% की पेनल्टी के रूप में रवना जमा कराया जाता है।

फर्जी रायल्टी पर 6% जुर्माना
PWD विभाग के अधीक्षण अभियंता सीपी सिंह का कहना है, खनन विभाग के द्वारा जीओ जारी किया गया है। रवना की पर्ची ऑनलाइन मांगी जाती है। यदि ऑनलाइन रवना मिस मैच नहीं होता है, तो कोई पेनल्टी नहीं लगती है। जबकि ठेकेदारों का कहना है, यदि रवना मिस मैच भी हो जाता है, तो रवना एक 1% रायल्टी काटकर भुगतान कर दिया जाए। लेकिन यह शासन का आदेश है। इसके लिए शासन से बात की जाएगी।

खबरें और भी हैं...