1 से 7 सितंबर तक मनेगा मातृ वंदना योजना सप्ताह:गर्भवती महिलाओं को 5000 रुपए दिए जाएंगे, घर बैठे ही करा सकते हैं रजिस्ट्रेशन, सहारनपुर में 86,034 लाभार्थियों को मिलेगा योजना का लाभ

सहारनपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्वास्थ्य विभाग ने 86,034 लाभार्थियों को सहायता राशि देने का लक्ष्य निर्धारित किया है। - Dainik Bhaskar
स्वास्थ्य विभाग ने 86,034 लाभार्थियों को सहायता राशि देने का लक्ष्य निर्धारित किया है।

सहारनपुर में 1 से 7 सितंबर तक प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के तहत मातृ वंदना योजना सप्ताह मनाया जाएगा। योजना के तहत पहली बार गर्भवती होने वाली महिलाओं या पहले बच्चे को जन्म देने वाली महिलाओं को 5 हजार रुपए दिए जाएंगे। धनराशि सीधे लाभार्थी के खाते में भेजी जाएगी।

स्वास्थ्य विभाग ने 86,034 लाभार्थियों को सहायता राशि देने का लक्ष्य निर्धारित किया है। जिसमें से अभी तक 70,824 लाभार्थियों को भुगतान हो चुका है।

तीन किस्तों में भेजी जाती है धनराशि

नोडल अधिकारी डा.ओपी गुप्ता ने बताया कि पहली किस्त एक हजार रुपए की तब दी जाती है जब गर्भवती महिला अंतिम मासिक चक्र के 150 दिनों के अंदर गर्भावस्था का पंजीकरण कराती है। दूसरी किस्त में दो हजार रुपए गर्भवती महिला को गर्भावस्था के छह माह पूरा होने के बाद कम से कम एक प्रसव पूर्व जांच कराने पर दी जाती है। तीसरी और अंतिम किस्त में दो हजार रुपए बच्चे के जन्म पंजीकरण के बाद और टीकाकरण पूर्ण होने पर दी जाती है।

उन्होंने बताया कि मातृ वंदना योजना सप्ताह के तहत लाभार्थियों के कागजों में पूर्व से लंबित त्रुटियों में सुधार किया जाएगा। दूसरी और तीसरी किस्त आदि का निस्तारण भी किया जाएगा।

घर बैठे ही करा सकते हैं पंजीकरण

योजना का लाभ लेने के लिए अब लाभार्थी को अस्पताल के चक्कर काटने की जरूरत नहीं है। लाभार्थी घर पर बैठकर ही PMMVY (प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना) पोर्टल पर ऑनलाइन www.pmmvy.cas.in पर पंजीकरण कर सकते हैं।

इसके लिए अब पहले की तरह ब्लॉक स्तर पर संबंधित कार्यालय अथवा आशा वर्कर के माध्यम से भी आवेदन किया जा सकता है।

सप्ताह में 100 लाभार्थियों का होगा पंजीकरण

डा.गुप्ता ने बताया कि सप्ताह में प्रतिदिन प्रत्येक ब्लॉक द्वारा कम से कम 100 लाभार्थियों का पंजीकरण किया जाएगा। द्वितीय एवं तृतीय किस्त का शत-प्रतिशत निस्तारण किया जाएगा। 90 दिनों से निष्क्रिय पड़े फार्म को आशाओं के माध्यम से भरवाकर निस्तारण किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...