हेलो....मैं नगरायुक्त बोल रहा हूं, आपकी लाइट ठीक हो गई:सहारनपुर नगरायुक्त ने शिकायतकर्ता को सीधे फोन कर ली कार्रवाई की जानकारी

सहारनपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिकायत रजिस्टर चैक करते नगराय� - Dainik Bhaskar
शिकायत रजिस्टर चैक करते नगराय�

‘‘हेलो...नगर निगम से मैं नगरायुक्त बोल रहा हूं, आपने लाइट और पानी की शिकायत कराई थी। आपकी लाइट ठीक हुई है या नहीं ?....हां ठीक हो गई सर, धन्यवाद। यह कोई किसी अखबार का साक्षात्कार नहीं है। यह नजारा नगर निगम में का है। गुरुवार को नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह व नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा.कुनाल जैन निगम के कंट्रोल रूम में पहुंचे और शिकायत रजिस्टर उठाकर शिकायतकर्ता को फोन मिला दिया। 20 मिनट तक फोन मिलाए गए।

लोगों की शिकायतों के निस्तारण की जांच की
दोनों अधिकारियों ने कंट्रोल में शिकायतों का निस्तारण समय से हो रहा है, या नहीं। इसकी जांच की। कंट्रोल रुम कर्मचारियों ने बताया कि शिकायतों का निस्तारण हो रहा है। इसके बाद उन्होंने बारी-बारी से बिजली शिकायत रजिस्टर, जल निगम और सफाई संबंधी शिकायत रजिस्टर उठाकर शिकायतकर्ता से मोबाइल से सीधे बात की। जिनकी शिकायतों का निस्तारण दिखाया गया था। नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा.कुनाल जैन ने भी अनेक शिकायतकर्ता से बात की। दोनों अधिकारियों ने 8-10 लोगों से शिकायतों पर कार्रवाई की जानकारी ली, सभी शिकायतकर्ता ने बताया कि उनकी शिकायतों का निस्तारण हो गया है।

मृतक कुत्ता उठाया या नहीं
कुत्ता मरने की एक शिकायत देखकर उन्होंने पूछा कि इस शिकायत क्या हुआ। कर्मचारियों ने बताया कि यह शिकायत अभी कुछ देर पहले ही लिखवाई गई है। इस संबंध इंस्पेक्टर को शिकायत दी है। नगरायुक्त ने नगर स्वास्थ्य अधिकारी को कहा मालूम करों कि मृतक कुत्ता उठाया गया है या नहीं। उन्होंने कहा कि ऐसी शिकायतों का बिना किसी विलंब के निस्तारण किया जाना चाहिए। ऐसी शिकायतों में शिकायतकर्ता के स्थान पर अधिकारी-कर्मचारी अपने आप को रखकर देखें कि यदि हमारे घर पर कुत्ता मरा पड़ा हो तो क्या हमें खाना-पीना अच्छा लगेगा?

उन्होंने कर्मचारियों से पूछा कि गाय मरने की शिकायत आती है तो आगे किसे भेजते हो, मृत कुत्ता या गाय उठाने की जिम्मेदारी किसकी है? नगरायुक्त ज्ञानेंद्र सिंह ने नगर स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए कि यदि कोई इंस्पेक्टर सफाई कार्य में लापरवाही करता है तो उन्हें अवगत कराएं। उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने लापरवाही करने वाले सफाई निरीक्षकों या सफाई नायकों का एक दिन का वेतन काटने के निर्देश दिए।

खबरें और भी हैं...