दो भाइयों की हत्या का राज नहीं खोल पाई पुलिस:एसएसपी बोले, काम चल रहा है अभी बताने के लिए कुछ नहीं है, 03 टीमें कर रही जांच

सहारनपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक पुन्नू का फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
मृतक पुन्नू का फाइल फोटो

सहारनपुर के थाना गंगोह के गांव मोहनपुरा में 18 नवंबर की सुबह दो सगे भाइयों की निर्मम हत्या के मामले में पुलिस के हाथ खाली है। पुलिस की 03 टीम हत्या को लेकर छानबीन कर रही है, लेकिन 25 दिन गुजरने के बाद भी कोई सुराग नहीं मिल सका है। हालांकि पुलिस ने 35 से ज्यादा लोगों को उठाकर पूछताछ की है। कई लोगों के मोबाइल भी सर्विलांस पर लगाए जा चुके हैं।

मृतक लीलू का फाइल फोटो
मृतक लीलू का फाइल फोटो

यह था मामला
गांव मोहनपुरा के पुन्नू भगत (50) और उसका छोटा भाई लीलू (40) रोजमर्रा की तरह घर से करीब 5 किलोमीटर दूर खेतों में देवस्थान पर पूजा करने गए थे। पूजा अर्चना करते हुए दोनों भाइयों को 18 नवंबर की सुबह गोली मारकर हत्या कर दी है। गोली मारने के बाद चाकूओं से भी वार किया था। जिसके बाद पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया था। एसएसपी आकाश तोमर सहित पुलिस विभाग के आलाधिकारी मौके पर पहुंच गए थे। फोरेंसिक टीम से लेकर डॉग स्क्वायड तक ने आसपास सुराग खंगालने की कोशिश की, लेकिन कुछ नहीं मिल सका था।

100 मीटर दूर मिला था दोनों का शव
दोनों भाइयों को उस समय गोली मारी गई, जब वह दोनों पूजा कर रहे थे। पहले लीलू को गोली मारी गई, गोली की आवाज सुनकर पुन्नू भगत ने भागने का प्रयास किया। बदमाशों ने पुन्नू भगत को भागते हुए गोली मारी। जिससे वह देवस्थान से 100 मीटर दूरी पर एक खेत में जा गिरा। जब वह करीब 02 घंटे तक घर नहीं पहुंचे तो तीसरा भाई मुन्नू खेत पर उन्हें देखने पहुंचा था। दोनों के शव देखकर वह घबरा गया और पास में खेत पर काम करने वाले गांव के लोगों को बुलाया। जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गई।

रैकी कर की गई थी हत्या
पुलिस ने शुरूआत की जांच में बताया था कि दोनों भाइयों की हत्या रैकी कर की गई है। हत्यारों को अच्छी तरह से पता था कि वह सुबह को देवस्थान पर पूजा करने आते हैं। पुलिस ने नजदीकी रिश्तेदारों सहित कई संदिग्ध लोगों से पूछताछ की थी। लेकिन अभी तक कुछ भी हासिल नहीं हो सका है। दोनों भाइयों की हत्या का खुलासा पुलिस के लिए चुनौती बना हुआ है।

30 वर्षों से कर रहे थे पूजा-पाठ
मोहनपुरा निवासी मृतक दाताराम चौधरी के चार बेटे थे, जिनमें से बड़े बेटे पुन्नू ने अपने खेत पर बने देव स्थान व बागड़ धाम पर पूजा अर्चना शुरू की थी। वह करीब 30 वर्षों से पूजा-पाठ करता आ रहा। वहीं पर उसने ज्योतिष का कार्य शुरू कर दिया। तब, वह देवस्थान के पास ही झाड़ फूंक करता था। उसके पास लोगों की भीड़ लगने लगी तो वह घर से ज्योतिष का कार्य करने लगा। उसका छोटा भाई लीलू भी इस कार्य में उसका साथ देने लगा।

एसएसपी आकाश तोमर का कहना है कि केस की जांच चल रही है। अभी कुछ भी बताया नहीं जा सकता है। जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

खबरें और भी हैं...