पूर्व MLC भाइयों की 107 करोड़ के अवैध संपत्ति चिन्हित:खनन माफिया और पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल और भाई महमूद की 125 बेनामी संपत्तियों की कुर्की होगी

सहारनपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हाजी इकबाल का फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
हाजी इकबाल का फाइल फोटो

अवैध खनन से अपना साम्राज्य खड़ा करने वाले खनन माफिया और पूर्व एलएलसी भाईयों हाजी इकबाल उर्फ बाल्ला और महमूद अली की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। पुलिस ने दोनों भाइयों की 125 बेनामी संपत्तियों को चिन्हित किया है। जिनकी कीमत 107 करोड़ बताई जा रही है। 14 मई यानी आज को इन संपत्तियों की कुर्की होगी। हाजी के बेटे सहित कई लोग पहले ही जेल भेजे जा चुके हैं। जबकि हाजी इकबाल और महमूद अली और उनका परिवार विदेश भागने की फिराक में लगा हुआ है। पुलिस इनकी गिरफ्तारी का पूरा प्रयास कर रही है।

विदेश भागने की फिराक में पूरा परिवार
एसएसपी आकाश तोमर की सख्ती के बाद हाजी इकबाल, महमूद अली और परिवार के अन्य लोग विदेश भागने की फिराक में है। सूत्रों का कहना है कि हाजी इकबाल की संपत्ति इंडिया से ज्यादा विदेशों में भी है। विदेशों में भी अपना कारोबार सेट कर रखा है।

इंडिया में सख्ती बढ़ते ही वह विदेश भागने की फिराक में है। हालांकि हाजी इकबाल के बेटे अलीशान को सहारनपुर पुलिस ने 13 मई को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। हाजी इकबाल के चहेते राव लईक और मुंशी नसीम अहमद को पहले ही जेल भेज चुकी है।

हालांकि राव लाईक को कोर्ट से जमानत मिल गई है। जबकि हाजी इकबाल के खासमखास जनेश्वर प्रशाद, बीरबल सिंह, संजय व सुरेंद्र आज भी जेल में चक्की पीस रहे हैं। जबकि उक्त मामले में नामजद मोहम्मद शोएब व पवन सिंह का पहले ही देहांत हो चुका है। इन्हीं मामलों पर अभी भी एसआईटी टीम की जांच जारी है।

हाजी इकबाल के यह रहे चर्चित मामले

  • 14 मार्च 2018 में फतेहपुर टांडा के पाल्ला द्वारा उनकी 7.5 बीघा जमीन पर कब्जा करने के आरोप में हाजी इकबाल व उनके बेटों अलीशान, वाजिद, अफजाल, भाई एमएलसी महमूद अली के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी।
  • पांच अप्रैल 2018 में उत्तराखंड के हरिद्वारा के रानीपुर के राकेश अरोड़ा की 44 बीघा जमीन कब्जाने के आरोप में (यूनिवर्सिटी से सटी हुई जमीन) पर जबरन हाजी इकबाल, उनके भाई और बेटे जावेद अली के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था।
  • पांच अप्रैल 2017 में उत्तराखंड के सहसपुर के मोहम्मद राशिद के 49 लाख 88 हजार रुपये की धनराशि मांगने पर जान से मारने की धमकी देने एवं धोखाधड़ी के आरोप में धारा 196/17, 420,406, 506 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। जिसमें हाजी इकबाल, भाई महमूद अली और उनके बेटों पर मुकदमा दर्ज कराय गया था।
  • दो नवंबर 2017 में तहसील बेहट के हल्का लेखपाल पंकज द्वारा हाजी इकबाल, भाई महमूद अली पर सरकारी जमीन कब्जाने के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया गया था।
  • 23 जुलाई 2018 में जमीन कब्जाने के आरोप को आधार बनाकर पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल और उनके दो पुत्रों जावेद और अलीशान के आलावा भाई महमूद अली के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की गई थी। जिमसें जावेद को जेल भेजा गया था।
  • छह जुलाई 2019 में हरियाणा के गुरुग्राम के सुनील मनचंदा की पत्नी किरण मनचंदा ने वाहिद, रविंद्र, हाजी मोहम्मद इकबाल और चार अज्ञात के खिलाफ बंधक बनाने, लूट, गाली गलौच करने के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया था।
  • सात जुलाई 2019 में ही बेहट तहसील के गांव शफीपुर की सविता पत्नी मेघराज के द्वारा जमीन कब्जाने के आरोप में हाजी इकबाल, बेटे वाजिद, जावेद, अलीशान के खिलाफ धोखाधड़ी से जमीन का बैनामा कराने और जान से मारने की धमकी देने के आरोप में मुकदमा दर्ज कराया गया था।
  • 20 सितंबर 2019 ग्लोकल कॉलेज के प्रबंधक एवं हाजी इकबाल के बेटे मोहम्मद वाजिद के खिलाफ एमआईसी के मानकों को पूरा न करने, निर्धारित फीस से अधिक फीस वसूलने और दूसरे वर्ष की परीक्षा में एमबीबीएस छात्रों को वंचित रखने के आरोप में रिपोर्ट दर्ज की गई थी।
खबरें और भी हैं...