संभल…स्कूल संचालकों को डीएम की दो टूक:विधानसभा चुनाव में लगने वाले वाहनों का फिटनेस प्रक्रिया एक हफ्ते में कराएं पूरी, ड्राइवर का वैक्सीनेट होना जरूरी

संभल7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संभल - Dainik Bhaskar
संभल

विधानसभा चुनाव में मतदान के लिए मतदान कर्मियों को ले जाने वाले वाहनों को लेकर जिला प्रशासन ने कवायद शुरू कर दी है। डीएम ने परिवहन विभाग और प्रशासनिक अफसरों के साथ बैठक कर योजना तैयार की है। इसी के साथ स्कूली वाहनों की फिटनेस की स्थिति का भी हाल जाना है और एक हफ्ते में फिटनेस कराने के सख्त निर्देश दिए हैं।

ले जाने वाले वाहनों को लेकर हुई बैठक

दरअसल उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है और संभल जनपद में 14 फरवरी को मतदान होना है। संभल जनपद में मतदान संपन्न कराने के लिए निर्वाचन विभाग तैयारियों में जुटा है। वहीं दूसरी तरफ मतदान के लिए पोलिंग पार्टियों के मतदान केंद्रों तक पहुंचाना अहम कड़ी है जिसके लिए जिला अधिकारी संजीव रंजन और एडीएम ने एआरटीओ अमरीश कुमार और प्रशासनिक अफसरों के साथ बैठक कल मतदान कर्मियों को ले जाने वाले स्कूली वाहनों को लेकर बड़ा मंथन किया है।

स्कूल संचालकों की मनमानी से नाराज डीएम

बैठक के दौरान परिवहन विभाग के सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी (प्रवर्तन) अमरीश कुमार ने स्कूली वाहनों के मतदान प्रक्रिया में लगाने को लेकर स्कूली वाहनों की फिटनेस रिपोर्ट डीएम के सामने रखी। एआरटीओ ने जनपद के अधिकतर स्कूली वाहनों की फिटनेस नहीं होने को लेकर जानकारी दी। जिस पर डीएम संजीव रंजन ने स्कूल संचालकों की मनमानी और लापरवाही को लेकर नाराजगी जताई और एक हफ्ते में हर हाल में जनपद के सभी स्कूल संचालकों को फिटनेस प्रक्रिया पूरी कराने के निर्देश दिए हैं। वहीं इसी के साथ डीएम ने भारत निर्वाचन आयोग के कोविड-19 को लेकर स्कूली वाहनों के चालक और परिचालकों के वैक्सीनेशन पर निर्देश दिए हैं।

वैक्सीनेशन करवाना होगा अनिवार्य

जिला अधिकारी संजीव रंजन ने कहा कि मतदान कर्मियों को ले जाने वाले स्कूली वाहनों के चालक परिचालकों का कोरोना वैक्सीनेशन होना बेहद जरूरी है। यदि स्कूली वाहनों के चालकों परिचालकों ने वैक्सीनेशन नहीं कराया है तो वह सबसे पहले वैक्सीनेशन कराएं क्योंकि वैक्सीनेशन होने के बाद ही मतदान कर्मियों को ले जाने की ड्यूटी में लगाया जाएगा।

वाहनों का फिटनेस सर्टिफिकेट होना अनिवार्य

जिला अधिकारी संजीव रंजन ने बताया कि पोलिंग पार्टियों और मतदान प्रक्रिया में लगने वाले स्कूली वाहनों की स्थिति को लेकर परिवहन विभाग और प्रशासनिक विभाग के अफसरों के साथ बैठक की गई है। जिसमें जनपद के अधिकतर स्कूलों के स्कूली वाहनों की फिटनेस नहीं होने की जानकारी मिली है। फिलहाल स्कूली वाहनों की जल्द से जल्द फिटनेस कराने के निर्देश दिए गए हैं और वाहनों के चालक और परिचालकों का वैक्सीनेशन होना भी जरूरी है। वाहनों की फिटनेस प्रक्रिया में यदि कोई लापरवाही करेगा तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...