संभल में साध्वी प्राची का IAS पर बयान:कहा- ऐसे पढ़े लिखे लोग ही आतंकी सोच को बढ़ावा देते हैं, औवेसी और बर्क खाते हिंदुस्तान का हैं और गीत पाकिस्तान-तालिबान के गाते हैं

संभल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विहिप नेता साध्वी प्राची ने की IAS अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग। - Dainik Bhaskar
विहिप नेता साध्वी प्राची ने की IAS अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग।

यूपी के कानपुर में आईएएस अधिकारी के धर्मांतरण को लेकर वायरल वीडियो पर विहिप नेता साध्वी प्राची ने बयान दिया है। साध्वी प्राची ने कहा कि तब्लीगी सोच, आतंकी सोच और ज्यादा पढ़े लिखे लोग ही इस तरह की चीजों को बढ़ावा देते हैं। अनपढ़ लोग तो भोले-भाले लोग होते हैं। उनको भेड़ की तरह इस रास्ते पर केवल भगाया जाता है। यह सब एक सोची समझी साजिश है और एक बड़ा षड्यंत्र है।

षड्यंत्र के तहत लोगों का हो रहा है धर्म परिवर्तन

साध्वी प्राची ने कहा कि न जाने कितने मदरसों में योजनाओं के साथ इस तरह का षड्यंत्र हो रहा है। अभी न जाने कितने रैकेट पकड़े जाएंगे। यह एक गंभीर विषय है और इस अधिकारी को कड़ी से कड़ी सजा देनी चाहिए।

एक संवैधानिक पद पर बैठकर लोगों को षड्यंत्र में फंसाना और एक षड्यंत्र के तहत समाज को गुमराह किया जा रहा है। साध्वी प्राची ने बर्क और ओवैसी पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि इन लोगों को इस तरह के मामलों में कॉमन सेंस नहीं है। इन जैसे लोगों को ज्यादा तवज्जो नहीं दी जानी चाहिए।

योगी राज में महिलाएं खोले प्रांगण में सोती हैं

साध्वी प्राची ने सपा, बसपा और कांग्रेस पर संरक्षण देने का आरोप लगाते हुए कहा कि सपा, बसपा और कांग्रेस ही इस तरह के अपराधियों, अधिकारियों और आतंकियों को संरक्षण देती थी। इन पार्टियों का इन लोगों को संरक्षण देना एक मात्र उद्देश्य रहा है। साध्वी प्राची ने अखिलेश यादव के द्वारा यूपी में अपराध चरम पर होने के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि अपराधियों को संरक्षण देना और अपराधियों को अपने सानिध्य में रखना यह उनका फंडा रहा है।

अपराध का खुलासा करना और अपराधियों को सजा दिलाने का उद्देश्य होता तो आज उत्तर प्रदेश के ऐसे हालात नहीं होते। किसी समय में बच्चे और महिलाएं बाहर नहीं निकल पाती थी, लेकिन आज खुले प्रांगण में महिलाएं सोती हैं।

हिंदूओं के साथ हुई मॉब लिंचिंग नहीं दिखाई देती

साध्वी प्राची ने सपा सांसद डॉ शफीक उर रहमान बर्क के द्वारा पिछले दिनों मॉब लिंचिंग को लेकर दिए गए बयान पर कहा कि जब मथुरा में लस्सी बेचने वाले और मंगोलपुरी में राहुल यादव को मार डाला, तब हिंदुओं के साथ हुई मॉब लिंचिंग नहीं दिखाई दी क्या। मुजफ्फरनगर में इस तरह की घटना को जब अंजाम दिया गया तब मॉब लिंचिंग नहीं दिखाई दी।

देश के अपराधियों को मिले कड़ी सजा

साध्वी ने कहा कि ये लोग हिंदुस्तान को अपना देश नहीं मानते हैं। बस खाते यहां का है पर गीत पाकिस्तान और तालिबान के गाते हैं। हमारे लिए कानून और संविधान दोनों ही सर्वोपरि हैं, लेकिन ऐसे लोगों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए।

खबरें और भी हैं...