• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Sambhal
  • SP MP Shafiqur Rahman Burke's Son Mamlukur Rahman Burke Also Congratulated The Taliban, Saying The Fight In Afghanistan Is The Taliban's Own Matter.

अब शफीकुर्रहमान के बेटे का विवादित बयान:सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क के बेटे ममलूकुर्रहमान बर्क ने तालिबान को दी बधाई, कहा- अफगानिस्तान में लड़ाई तालिबान का अपना मामला

संभल4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
संभल के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क के बेटे हैं ममलूकुर्रहमान। - Dainik Bhaskar
संभल के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क के बेटे हैं ममलूकुर्रहमान।

सपा सांसद शफीकुर्रहमान बर्क के बेटे ममलूकुर्रहमान बर्क ने तालिबान को बधाई दी है। कहा है कि अफगानिस्तान में लड़ाई तालिबान का अपना मामला है। इससे पहले उनके पिता संभल के सांसद शफीकुर्रहमान बर्क ने मुबारकबाद दी थी।

मौलाना ममलूकुर्रहमान बर्क़ ने कहा है कि अमेरिका जापान ब्रिटेन के अलावा रूस ने तालिबान से लड़ाई लड़़ी है। तालिबान ने हमला नहीं किया। सुपर पॉवर उनसे लड़ने गईं थीं। तालिबान ने भारत से भी कुछ नहीं कहा है। अफगानिस्तान में लड़ाई तालिबान का अपना मामला है। अफगानिस्तान की सत्ता पर काबिज होने पर बधाई दी है।

शफीकुर्रहमान पर दर्ज हुआ था देशद्रोह का मुकदमा
संभल से सपा सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क के खिलाफ बुधवार को देशद्रोह का केस दर्ज किया गया थे। बर्क पर भड़काऊ बयान देने और आतंकी संगठन तालिबान का समर्थन करने का आरोप है। बर्क ने सोमवार को तालिबानियों की तुलना स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों से की थी। कहा था- जैसे हिंदुस्तान ने अंग्रेजों से आजादी की लड़ाई लड़ी थी। वैसे ही तालिबान अफगानिस्तान में अमेरिका से आजादी की लड़ाई लड़ रहा है। तालिबान ने अपने देश को आजाद कराया है। अब बर्क के बेटे ने तालिबान के पक्ष में बात करते हुए मुबारकबाद दे दी।

संभल से सपा सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क के खिलाफ बुधवार को देशद्रोह का केस दर्ज किया गया थे। बर्क पर भड़काऊ बयान देने और आतंकी संगठन तालिबान का समर्थन करने का आरोप है।
संभल से सपा सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क के खिलाफ बुधवार को देशद्रोह का केस दर्ज किया गया थे। बर्क पर भड़काऊ बयान देने और आतंकी संगठन तालिबान का समर्थन करने का आरोप है।

बर्क का यह बयान सामने आने के बाद भाजपा के पश्चिमी यूपी के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष राजेश सिंघल की तहरीर पर सदर कोतवाली में केस दर्ज किया गया था। मंगलवार देर रात बर्क के खिलाफ तहरीर देने के लिए राजेश सिंघल और भाजपा जिलाध्यक्ष ओमवीर खड़गवंशी सदर कोतवाली पहुंचे थे। हालांकि, FIR के बाद सांसद बर्क ने सफाई दी थी। कहा, मैं तालिबान के साथ नहीं, अपने मुल्क के साथ हूं। मेरी मुल्क की जो पॉलिसी बनेगी मैं उसके साथ हूं। मैंने तालिबान की कभी तारीफ नहीं की, तालिबान से मेरा क्या मतलब।

अफगानिस्तान में अमेरिका की हुक्मरानी क्यों ?
सांसद बर्क ने कहा था कि अफगानिस्तान की आजादी वहां का निजी मसला है। अफगानिस्तान में अमेरिका की हुक्मरानी क्यों? उन्होंने कहा कि तालिबान वहां की ताकत है। उसने अमेरिका और रूस के पैर वहां नहीं जमने दिए। अफगानिस्तान के लोग तालिबान की अगुवाई में आजादी चाहते हैं। भारत में भी अंग्रेजों से पूरे देश ने लड़ाई लड़ी थी। रहा सवाल हिंदुस्तान का तो यहां कोई कब्जा करने अगर आएगा तो देश उससे लड़ने को मजबूत है।

बर्क कोरोना को बीमारी मानने से कर चुके हैं इनकार
शफीकुर्रहमान बर्क ने इससे पहले कोरोना को बीमारी मानने से ही इनकार कर दिया था। उन्होंने कहा था- कोरोना कोई बीमारी है ही नहीं। अगर कोरोना कोई बीमारी होती तो दुनिया में इसका इलाज होता। ये आसमानी आफत है जो सरकार की गलतियों की वजह से पैदा हुई है। अल्लाह के सामने रोकर-गिड़गिड़ाकर माफी मांगने से ही खत्म होगी।

खबरें और भी हैं...