संतकबीरनगर में पैसे लेकर बेचा जा रहा मुफ्त रिफाइंड तेल:65 रुपए में बेचा जा रहा एक पैकेट, पैकेट पर लगा है सरकारी लोगो

संतकबीरनगर4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
संतकबीरनगर में पैसे लेकर बेचा जा रहा मुफ्त रिफाइंड तेल - Dainik Bhaskar
संतकबीरनगर में पैसे लेकर बेचा जा रहा मुफ्त रिफाइंड तेल

संतकबीरनगर के नाथनगर ब्लाक के कस्बा महुली में स्थित एक किराना की दुकान से बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग का सरकारी निशुल्क रिफाइण्ड सोयाबीन तेल धड़ल्ले से बिक्री होने का मामला प्रकाश में आया है। जिसका एक वीडियो वायरल हो गया। इसकी भनक लगते ही बाल विभाग में हड़कम्प मच गई। पोल खुलते ही विभाग जिम्मेदार पर कार्रवाई करने की बात कह रहा है। अब देखना है कि विभाग इस मामले में क्या एक्शन लेगा अब समय बताएगा।

दो सगी बहनों ने की शिकायत

जिले में शुक्रवार को सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसके बाद पूरे जिले में चर्चा का विषय बना हुआ है। लोग उत्साहपूर्वक एक दूसरे को उक्त वीडियो वायरल कर बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग की करतूत के बारे में अवगत करा रहे थे। एक मिनट चौतीस सेकेंड की वायरल वीडियो में महुली कस्बा निवासी दो बहनें हाथ मे बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग द्वारा निशुल्क वितरित होने वाले रिफाइण्ड सोयाबीन तेल पैकेट थामे दक्षिण चौराहे स्थित किराना दुकानदार के पास पहुंचती है और आरोप लगाती है कि उन्हें निशुल्क वितरण के लिए मिले तेल को 65 रुपया में क्यो बेचा है।

पैकेट पर लगा सरकारी लोगो

पहले तो दुकानदार आनाकानी करने लगा। वायरल वीडियो में यह स्पष्ट दिखाई दे रहा कि उक्त वापसी पैकेट को अलग एक बोरे में रखकर दूसरी जगह से पैकेट बदलकर दे रहा है। सगी बहनों ने बताया कि पैकेट पर बकायदा तेल की पैकेट पर सरकारी विभाग का लोगो के साथ जरूरी निर्देश अंकित है। निशुल्क वितरण का जिक्र भी हुआ है। वीडियो देखने के बाद चर्चाओ का बाजार गर्म हो गया। लोगो ने बताया कि रिफाइण्ड तेल को धात्री, गर्भवती महिलाओं के लिए निशुल्क वितरण कराने का निर्देश है। लेकिन यह बात समझ से परे है कि आखिरकार दुकानदार को बेचने के लिए किसने दिया यह जांच का विषय है।

आरोपी के खिलाफ होगी सख्त कार्रवाई

कार्यालय से उठान कराने की जिम्मेदारी महिला समूह की होती है। इसके बाद वह आंगनबाड़ी कार्यकर्ती के माध्यम से निशुल्क वितरण कराती है। इस सम्बंध में उन्हें सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो के माध्यम से जानकारी मिली है। किसी ने लिखित शिकायत नही किया है। मामला गंभीर है। वह अपने स्तर से इसकी जांच कराएगी। दोष साबित होने पर करवाई की जद से कोई नही बच पाएगा।

खबरें और भी हैं...