8 साल के बच्चे के हत्यारों को फांसी की सजा:शाहजहांपुर में 2015 में 2 आरोपियों ने स्कूल जाते समय गोली मार दी थी

शाहजहांपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दोनों आरोपियों को भेजा गया जेल। - Dainik Bhaskar
दोनों आरोपियों को भेजा गया जेल।

शाहजहांपुर में छह साल पहले आठ साल के बच्चे की स्कूल जाते समय दो युवकों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। कोर्ट ने बुधवार को दोनों आरोपियों को फांसी की सजा सुनाई है। दोनों आरोपियों को जेल में दाखिल कर दिया गया है। मृतक बच्चे के पिता ने कहा कि उसको न्याय मिला है।

दोनों का चल रहा था विवाद

थाना कलान क्षेत्र के निकुररा के रहने वाले रामवीर का गांव के रहने वाले मनोज और सुनील से विवाद चल रहा था। आरोपी मनोज के भाई विजय कुमार ने रामवीर के घर के पते पर अपना फर्जी वोटर आईडी बनवाया था। जिसका रामवीर ने विरोध किया था। इसी बीच मनोज और सुनील के भाई विजय कुमार की गांव में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

स्कूल जाते समय की थी हत्या

विजय की मौत के पीछे भाई मनोज और सुनील ने रामवीर पर हत्या का शक जताते हुए रंजिश मान ली थी। जिसके बाद 28 जनवरी 2015 को विजय के भाई मनोज और सुनील ने रामवीर के 8 साल के बेटे अनमोल की स्कूल जाते समय हत्या कर दी थी। जिसके बाद से दोनों आरोपी जेल में बंद थे।

पिता बोला- न्याय अभी जिंदा है

मामले का मुकदमा फास्ट ट्रैक कोर्ट प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश मोहम्मद कमर की अदालत में चल रहा था। पीड़ित पक्ष की तरफ से सात गवाहों की गवाही और तमाम साक्ष्यों के आधार पर कोर्ट ने दोनों आरोपियों को फांसी सजा सुनाई। सजा सुनते ही आरोपी सुनील के पिता की आंखों से आंसू छलक पड़े।

उन्होंने अपने बेटे और भतीजे को बेगुनाह बताया है। वहीं रामवीर ने कहा कि हत्या करने वाले दोनो आरोपियों को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाकर ये साबित कर दिया है कि न्याय अभी जिंदा है।