मंत्री के फोन का भी पुलिस पर नहीं असर:शाहजहांपुर में मंत्री की मौजूदगी में हुई चोरी समेत 3 घटनाएं, 14 दिन बाद भी नहीं हो सका खुलासा

शाहजहांपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शाहजहांपुर शहर में स्थित एक थाना क्षेत्र में पिछले 14 दिन में 3 घटनाएं हो चुकी हैं। 2 टप्पेबाजी और तीसरी घटना शादी में मंत्री की मौजूदगी में जेवर चोरी की हुई थी, लेकिन पुलिस अभी तक एक भी घटना का खुलासा नहीं कर सकी है, जबकि शादी में चोरी की हुई घटना की जानकारी मंत्री ने खुद पुलिस अधिकारियों को दी थी। बावजूद इसके मंत्री के दखल के बाद भी पुलिस अभी तक चोरों का पता लगाने में कामयाब नहीं हो सकी है, जबकि वाहवाही लूटने के लिए पुलिस प्रतिदिन सभी थाना क्षेत्रों से 50 से 60 अपराधियों को गिरफ्तार कर अपनी पीठ थपथपा रही है।

थाना सदर बाजार क्षेत्र में हुईं तीनों घटनाएं
थाना सदर बाजार क्षेत्र में तमाम अधिकारी के आवास बने हैं, जिसमें डीएम, एसपी समेत सभी पुलिस-प्रशासन के आलाधिकारी और जिला जज के आवास शामिल हैं। इसी क्षेत्र में रोडवेज बस अड्‌डा और रेलवे स्टेशन भी है। ऐसे में जब इस क्षेत्र में बीच रोड पर टप्पेबाजी की 2 घटनाएं और एक शादी में वित्त एवं संसदीय कार्यमंत्री सुरेश खन्ना की मौजूदगी में जेवर चोरी हो जाएं तो पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठना लाजमी है। पुलिस की कार्यशैली तब और सवालों के घेरे में आ जाती है, जब 14 दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस एक भी घटना का खुलासा करने में कामयाब नहीं हो पाती। जबकि टप्पेबाजी की हुई दोनों घटनाओं को अंजाम देने का तरीका बिलकुल एक जैसा था।

जीआरपी अधिकारी बनकर महिला से की थी टप्पेबाजी
चौक कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला बृज बिहार कॉलोनी निवासी अखिलेश कुमारी 17 अप्रैल की शाम हरदोई जाने के लिए रोडवेज अड्‌डे पर पहुंची थीं। वहां पर उनके पास एक युवक आया। उसने खुद को जीआरपी का अधिकारी बताकर जान-पहचान बढ़ाई, महिला उसकी बातों में आ गई। उसके बाद युवक के कहने पर महिला उसकी गाड़ी से हरदोई चलने के लिए राजी हो गई।

गाड़ी तक जाने के लिए ई-रिक्शा पर बैठी महिला के पास दूसरा युवक आ गया था। उसने भी खुद को जीआरपी का अधिकारी बताया और महिला से रास्ता ठीक न होने की बात कहकर उसके जेवर उतरवाकर एक लिफाफे में रखवा लिए थे। तब उसने धोखा देकर महिला को छोटे-छोटे ईट-पत्थर से भरा लिफाफा देकर और भरा हुआ लिफाफा लेकर फरार हो गए थे, जिसका पुलिस अभी तक खुलासा नहीं कर सकी है।

अधिवक्ता की मां से बैंक कर्मी बनकर टप्पेबाजी
हरदोई जिले के थाना शाहबाद क्षेत्र के मोहल्ला मौलागंज निवासी अधिवक्ता गौरव मिश्रा की मां अपने मायके जाने के लिए 24 अप्रैल की सुबह शाहजहांपुर रोडवेज बस अड्‌डे पर पहुंची थीं। यहां पर उनको 2 युवक मिले। जिन्होंने कहा कि कांट कस्बे में जाने के लिए अब कोई बस नहीं मिलेगी। युवकों ने खुद को बैंक का कर्मी बताया और बैंक की गाड़ी होने की बात कहकर महिला से चलने के लिए कहा।

महिला भी उनके साथ गाड़ी से चल दी। तब युवकों ने महिला से कहा था कि बैंक की गाड़ी में सोने-चांदी के जेवर पहनकर चलने की परमिशन नहीं होती है। ये कहकर युवकों ने महिला से जेवर एक लिफाफे में रखवाकर लिफाफा बदलकर महिला को दे दिया। कुछ दूर चलने पर दोनों युवकों ने महिला को गाड़ी से उतार दिया था। जिसके बाद महिला की सूचना पर हरदोई में रहने वाले अधिवक्ता बेटे ने शाहजहांपुर पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

पुलिस नहीं कर पाई खुलासा
थाना सदर बाजार क्षेत्र में फैक्ट्री स्टेट मंदिर में 23 अप्रैल को एक शादी थी। शादी में वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री सुरेश खन्ना भी पहुंचे थे। उनकी मौजूदगी में शादी में एक कमरे का ताला तोड़कर जेवर और नकदी से भरा बैग चोरी हो गया था, जिसके बाद चोरी की घटना की जानकारी मंत्री को लगी तो उन्होंने खुद चोरी की जानकारी पुलिस के अधिकारियों को दी थी।

मंत्री के दखल के बाद पुलिस ने पूरी रात चोरों को तलाशने की कोशिश की, लेकिन चोरों का कुछ पता नहीं चल सका था। पीड़ित ने दूसरे दिन थाने में तहरीर दी। जिसमें बताया था कि, चोरी की घटना की जानकारी खुद मंत्री सुरेश खन्ना ने पुलिस को दी थी। चोरी की घटना को 8 दिन बीत चुके हैं, लेकिन पुलिस चोरों का पता नहीं लगा सकी है।

खबरें और भी हैं...