पेंडिंग न रहें महिला उत्पीड़न के मामले:शाहजहांपुर में राज्य महिला आयोग की सदस्य ने दी सख्त हिदायत, कहा- पीड़ित महिलाओं की सुनवाई में देरी न हो

शाहजहांपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
महिला राज्य आयोग की सदस्य ने कहा कि उत्पीड़न के मामले में देरी न हो। प्राथमिकता में लेकर ऐसे मामलों जल्द से जल्द निस्तारित किया जाएगा। घरेलू हिंसा में तुरंत कार्रवाई की जानी चाहिए।  - Dainik Bhaskar
महिला राज्य आयोग की सदस्य ने कहा कि उत्पीड़न के मामले में देरी न हो। प्राथमिकता में लेकर ऐसे मामलों जल्द से जल्द निस्तारित किया जाएगा। घरेलू हिंसा में तुरंत कार्रवाई की जानी चाहिए। 

शाहजहांपुर में राज्य महिला आयोग की सदस्य सुनीता बंसल ने कलक्ट्रेट सभागार में प्रशासन और संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए कहा कि महिला उत्पीड़न के मामले में देरी न हो। प्राथमिकता में लेकर ऐसे मामलों जल्द से जल्द निस्तारित किया जाएगा। घरेलू हिंसा में तुरंत कार्रवाई की जानी चाहिए।

11 शिकायतों पर लिया संज्ञान
आयोग की सदस्य ने 11 शिकायतों के बारे में पीड़िताओं से ब्योरा लिया और उन्हें न्याय दिलाने का आश्वासन देते हुए अधिकारियों को आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना एवं सामान्य बाल सेवा योजना के प्रचार प्रसार पर उन्होंने विशेष तौर पर जोर दिया।

अनाथ बच्चों को 4 हजार रुपए प्रतिमाह
मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना में कोरोना संकमण से मृतकों के अनाथ बच्चों को चार हजार रुपये प्रतिमाह भरण पोषण, पढ़ाई, आवासीय विद्यालय में पढ़ने के लिए व्यवस्था आदि पर खर्च होंगे। इसके अलावा सामान्य बाल सेवा योजना में ऐसे बच्चों को 2500 रुपये प्रतिमाह दिए जाएंगे। जिनके अभिभावक की कोविड के अलावा भी सामान्य रूप से मौत हो गई है।

खबरें और भी हैं...