शाहजहांपुर में कैदी ने शौचालय में लगाई फांसी:4 महीने से दहेज हत्या के मुकदमे में बंद था कैदी, अंगौछे से लगाई फांसी

शाहजहांपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जेल में जांच करने पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट। - Dainik Bhaskar
जेल में जांच करने पहुंचे सिटी मजिस्ट्रेट।

शाहजहांपुर की जेल में बंद एक कैदी ने शौचालय में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। काफी देर तक जब कैदी वापस नहीं लौटा तो, अन्य कैदियों ने शौचालय में जाकर देखा तो, उसका शव अंगौछे के फंदे से लटका हुआ था। कैदी की मौत की खबर सुनते ही जेल प्रशासन में हड़कंम मच गया। आननफानन परिजनों को सूचना देकर शव को फंदे से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। कैदी पिछले करीब चार माह से दहेज हत्या के मुकदमें में बंद था। हालांकि परिजनों ने जेल प्रशासन पर कोई आरोप नहीं लगाया है।

कैदी ने शौचालय में लगाई फांसी

थाना मिर्जापुर क्षेत्र के ढाई गांव का रहने वाला 32 वर्षीय शैलेश कुमार गुप्ता दहेज हत्या के मुकदमे में पिछले करीब चार माह से जेल में बंद था। गुरूवार की शाम शैलेश बैरक से निकलकर शौचालय गया था। जहां उसने अंगौछे से फंदा बनाकर लोहे के सरिये से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। काफी देर तक जब शैलेश बैरक में नहीं लौटा तो, अन्य कैदियों ने शौचालय में जाकर देखा तो, उसका शव फंदे से लटका हुआ था। तभी कैदियों ने इसकी सूचना जेल प्रशासन को दी। जिससे वहां पर हड़कंप मच गया। उसके बाद जेलर राजेश राय समेत तमाम अधिकारी मौके पर पहुंचे। उसके बाद परिजनों को सूचना देकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। हालांकि सूचना मिलने के बाद परिजन पोस्टमार्टम हाउस पर तो पहुंचे। मगर जेल प्रशासन पर कोई आरोप नहीं लगाया है।

जेल प्रशासन ने शुरू की जांच

वहीं जेलर राजेश राय ने बताया कि, दहेज हत्या में बंद कैदी ने शौचालय में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। शव को उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। परिजनों को भी सूचना दे दी गई है। कैदी ने फांसी क्यों लगाई है। इसकी जांच की जा रही है।

खबरें और भी हैं...