शामली के बेटे को गेंद फेंकने में मिला प्रथम स्थान:130 किलोमीटर की रफ्तार से फेंकी गेंद, 2022 में होने वाले T-10 में लेगा भाग

शामलीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शामली के गेंदबाज ने हासिल किया पहला स्थान। - Dainik Bhaskar
शामली के गेंदबाज ने हासिल किया पहला स्थान।

यूपी में पिछले दिनों नोएडा इंटरनेशनल स्टेडियम में दिव्यांग गेंदबाजों की तलाश में कई शहरों के खिलाड़ियों का ट्रायल किया गया था। जिसमें कैराना निवासी मोहम्मद सादिक ने 130 किलोमीटर की तेज रफ्तार से गेंद फेंककर प्रथम स्थान प्राप्त किया। दिव्यांग गेंदबाज मोहम्मद सादिक को कोच, परिवार और उसके साथियों ने बधाई दी।

खिलाड़ियों का किया जा रहा था ट्रायल

30 अक्टूबर को नोएडा के इंटरनेशनल स्टेडियम में दिव्यांग तेज गेंदबाजो की तलाश में देश भर के करीब 30 शहरों के खिलाड़ियों का ट्रायल कराया गया। जिसमें कैराना के मोहल्ला कलालान निवासी इस्लाम के 19 साल के दिव्यांग पुत्र मोहम्मद सादिक ने भी प्रतिभाग किया था।

दिव्यांग गेंदबाज मोहम्मद सादिक ने 130 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से तेज गेंद फेंककर प्रथम स्थान प्राप्त किया। दिव्यांग खिलाड़ियों के लिए T-10 क्रिकेट का आयोजन फरवरी 2022 में किया जाएगा। जिसके लिए 26 नवंबर को दिव्यांग खिलाड़ियों की नीलामी होगी। जिसमें आठ टीमों के खिलाड़ियों की नीलामी होगी।

स्टेडियम के खिलाड़ियों के लिए हो अच्छी व्यवस्था

दिव्यांग गेंदबाज मोहम्मद सादिक ने बताया कि वह करीब 4 साल से शामली रोड स्थित भास्कर क्रिकेट एकेडमी में प्रैक्टिस करता आ रहा है। प्रथम स्थान प्राप्त करने पर दिव्यांग तेज गेंदबाज मोहम्मद सादिक को कैराना क्षेत्र के लोगों, भास्कर क्रिकेट एकेडमी के खिलाड़ी और कोच प्रवीण कुमार ने परिवार वालों को बधाई दी। दिव्यांग तेज गेंदबाज मोहम्मद सादिक ने सरकार से खिलाड़ियों के लिए क्षेत्र में अच्छे स्टेडियम व सुविधाओं की व्यवस्था कराने की मांग की है।

खिलाड़ी के परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं

उन्होंने कहा कि क्षेत्र में अच्छे खिलाड़ियों के लिए प्रतिभा दिखाने के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। उन्होंने सभी युवाओं से खेल जगत में भाग लेकर क्षेत्र का नाम रोशन करने की अपील की है। दिव्यांग गेंदबाज मोहम्मद सादिक के पिता इस्लाम चिनाई मिस्त्री का कार्य करते हैं। उसी से वो अपने परिवार का पालन पोषण करते हैं। दिव्यांग गेंदबाज के परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है।

खबरें और भी हैं...