शामली में भ्रष्ट वन अधिकारी के खिलाफ नहीं हुई कार्रवाई:शराब पीकर व्यापारियों से मांगी थी रिश्वत, विरोध करने पर मांग ली थी माफी

शामली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शामली में भ्रष्ट वन अधिकारी के खिलाफ नहीं हुई कार्रवाई। - Dainik Bhaskar
शामली में भ्रष्ट वन अधिकारी के खिलाफ नहीं हुई कार्रवाई।

शामली में कुछ दिनों पहले वन विभाग के रेंजर ने शराब के नशे में धुत होकर आरा मशीन कारोबरियों से रिश्वत मांगी थी। जिसका उन लोगों ने विरोध करते हुए प्रदर्शन किया था। जिसके बाद विभाग द्वारा रेंजर से माफी मंगवाकर मामला शांत करवा दिया गया था। उस अधिकारी के खिलाफ विभागीय स्तर पर कोई कार्रवाई लेकिन नहीं की गई।

डेढ़ लाख रुपयों की कर रहा था मांग
जिले के कोतवाली क्षेत्र के कैराना रोड पर विजय और सतीश की आरा मशीन है। जहां पर क्षेत्र के वन विभाग के रेंजर धर्मव्रत वहां पहुंचा और आरा मशीन मालिकों से आरा मशीने के स्थल परिवर्तन करने के नाम पर डेढ़ लाख रुपए की रिश्वत की मांग करने लगा। रिश्वत ना देने पर वह व्यापारियों को उल्टा सीधा कहने लगा। व्यापारियों का आरोप है कि जब वन अधिकारी आरा मशीन पर आया तो वह शराब के नशे में धुत था। जब उनके बीच बात काफी बढ़ गई तो सभी व्यापारी इकट्ठा होकर सदर कोतवाली पहुंचे। जहां उन्होंने वन विभाग अधिकारी धर्मव्रत के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग करते हुए मेडिकल कराने की मांग की। विभागीय अधिकारियों द्वारा नशेड़ी वन रेंज अधिकारी से व्यापारियों से माफी मंगवाकर मामले को खत्म कराया ।

पहले भी हुई है ऐसी घटना
वहीं शराबी व भ्रष्ट अधिकारी धर्मव्रत के खिलाफ यह कोई पहला मामला नहीं है। कुछ दिनों पहले भी जलालाबाद में एक व्यक्ति के द्वारा पेड़ कटाने के मामले में शिकायत करने पर उसको गाली गलौज देने और उल्टा उसी को झूठे मुकदमे में जेल भेजने का मामला भी सामने आया था । जिसमें वन विभाग के अधिकारियों ने जांच के बात कहकर मामले को निपटा दिया था।

खबरें और भी हैं...