पुलिस की पकड़ से दूर 4 मौतों के जिम्मेदार:शामली में तीन सगे भाईयों समेत चार पर केस दर्ज; पुलिस की तीन टीमें बनीं, एक दिन पहले आतिशबाजी में विस्फोट से हुई थी चार की मौत

शामली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मामले में देर रात कैराना कोतवाली पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। - Dainik Bhaskar
मामले में देर रात कैराना कोतवाली पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

शामली जिले में अवैध रूप से संचालित हो रही आतिशबाजी फैक्ट्री को लेकर पुलिस अब सक्रिय हो गई है। शुक्रवार सुबह लगभग 4 बजे के आसपास मामले में 4 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा लिखा गया है। आरोपियों में तीन सगे भाई हैं। हालांकि, हादसे के 12 घंटे बीत जाने के बाद भी आरोपी अभी पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने के लिए टीम भी बनाई है। प्राथमिक जांच में सामने आया है कि आतिशबाजी फैक्ट्री का लाइसेंस भी नहीं था।

बताते चले कि शामली के कस्बा कैराना में अवैध पटाखा फैक्ट्री में शुक्रवार दोपहर करीब 4 बजे तेज धमाका हो गया। हादसे में 4 लोगों की मौत हो गई। 4 गंभीर घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। धमाके के वक्त फैक्ट्री में 12 मजदूर काम कर रहे थे।

3 सगे भाइयों समेत 4 पर दर्ज हुआ मुकदमा

प्रकरण में केस कैराना कोतवाली में एसआई शैलेंद्र गौड की तहरीर पर लिखा गया है। जिन आरोपियों पर केस दर्ज हुआ है उनमें पटाखा फैक्ट्री संचालक राशिद निवासी वार्ड नंबर 11 कलंदर चौक पानीपत हरियाणा, अचार फैक्ट्री मालिक इकबाल, जावेद और रईस निवासी मोहल्ला आलकला थाना कैराना शामिल हैं। इन पर आईपीसी की धारा 5 विस्फोटक अधिनियम, धारा 9 बी विस्फोटक अधिनियम, 286 व 304 के तहत केस दर्ज किया है। पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी हुई हैं। वहीं स्थानीय पुलिस प्रशासन की भी इसमें लापरवाही दिखाई दी। क्योंकि करीब डेढ़ महीने से बिना लाइसेंस के अवैध पटाखा फैक्ट्री का संचालन किया जा रहा था। जिसमें बड़े स्तर पर दीपावली से पहले पटाखो का जखीरा तैयार किया जा रहा था।

डेढ़ महीने से बिना लाइसेंस के अवैध पटाखा फैक्ट्री का संचालन किया जा रहा था।
डेढ़ महीने से बिना लाइसेंस के अवैध पटाखा फैक्ट्री का संचालन किया जा रहा था।

पुलिस की तीन टीमें बनाई गई हैं

आरोपियों को तलाशने के लिए पुलिस ने पुलिस की तीन टीमें बनाई हैं। जिसमे सर्विलांस और स्थानीय पुलिस भी शामिल हैं। बहरहाल, अब यह भी जांच की जा रही है कि मुख्य आरोपी राशिद आतिशबाजी का रॉ मैटेरियल कहां से लाता था। इतनी बड़ी मात्रा में बिना लाइसेंस उसने कैसे आतिशबाजी का सामान इकठ्ठा किया हुआ था।

आरोपियों को तलाशने के लिए पुलिस ने पुलिस की तीन टीमें बनाई हैं।
आरोपियों को तलाशने के लिए पुलिस ने पुलिस की तीन टीमें बनाई हैं।

जुमा होने की वजह से बड़ा हादसा होने से बचा

शुक्रवार शाम बंद पड़ी एक अचार फैक्ट्री के अंदर चलाई जा रही अवैध पटाखा फैक्ट्री में जोरदार विस्फोट हुआ। विस्फोट इतना जबरदस्त था कि 10 किलोमीटर एरिया में धमाके की आवाज सुनाई दी और धमाके के बाद फैक्ट्री पूरी तरह मलबे में तब्दील हो गई। फैक्ट्री के अंदर काम कर रहें 10 मजदूरों में से 4 मजदूरों पप्पी निवासी बागपत, सलमान व फैमूदीन निवासी बहराइच व रूमान निवासी बहराईच की मौके पर दर्दनाक मौत हो गई।

जबकि 4 मजदूर जावेद उर्फ गुड्डू निवासी पानीपत, फरमान निवासी बागपत और सलमान मौबीन निवासी बहराईच घायल हो गए थे। घायलों के मुताबिक फैक्ट्री में 20 मजदूर काम करते हैं। जिनमे से 8 से 10 लोग छुट्टी पर थे। यही वजह है कि बड़ा हादसा होने से बच गया।

मौके पर खड़ी कार पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है।
मौके पर खड़ी कार पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई है।
पुलिस भी मौके पर मौजूद है।
पुलिस भी मौके पर मौजूद है।
फैक्ट्री ढहने से मजदूरों का सामान भी उसमे बर्बाद हो गया है।
फैक्ट्री ढहने से मजदूरों का सामान भी उसमे बर्बाद हो गया है।
हादसे के दुसरे दिन भी मलबे को हटाने का काम जारी है।
हादसे के दुसरे दिन भी मलबे को हटाने का काम जारी है।
खबरें और भी हैं...