शामली में 200 लोग जिला बदर:8 हजार लोगों के खिलाफ मुचलका, 10 हजार लोगों के खिलाफ चालानी की हुई कार्रवाई

शामली4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शामली जनपद में शासन प्रशासन चुनाव को शांतिपूर्ण कराने के लिए जहां दिन-रात अपनी प्लानिंग में जुटा है। इसी कड़ी में पुलिस ने करीब 5 से 8000 लोगों के खिलाफ मुचलका पाबंद, 10 हजार लोगों के खिलाफ चालानी रिपोर्ट और करीब 200 लोगों को जिला बदर करने की कार्रवाई अमल में लाई गई है। कैराना विधायक नाहिद हसन भी अभी पुलिस गिरफ्त से फरार चल रहा है।

बनाई गई है लिस्ट

एएसपी ओपी सिंह ने बताया कि अपराधिक मामलों में संलिप्त रहने और अपने आसपास लोगों को परेशान करने बवाल मचाने अन्य आदि अपराधिक मामलों में संलिप्त रहने वाले लोगों की लिस्ट बनाकर उनके खिलाफ मुचलका पाबंद, चलानी रिपोर्ट, जिला बदर की कार्रवाई को संज्ञान में लाकर शुरू कर दी है। अभी तक जहां हजारों लोगों के खिलाफ कार्रवाई पुलिस ने कर दी है तो वहीं यह कार्रवाई पुलिस मतदान होने से 1 दिन पहले तक करती रहेगी। वहीं कैराना विधायक नाहिद हसन भी अभी पुलिस गिरफ्त से फरार चल रहा है।

इतने लोगों के खिलाफ हुई कार्रवाई

पुलिस अधिकारी का कहना है कि 2022 के चुनाव का बिगुल बज चुका है तो वहीं प्रथम चरण में होने वाले जनपद की तीनों सीट पर चुनाव को शांतिपूर्ण और सुरक्षित कराने के लिए पुलिस ने अपनी प्लानिंग करते हुए हुड़दंग मचाने, आम जनमानस को परेशान करने और सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने वाले, छोटी-छोटी बातों पर बवाल करने वाले लोगों व अन्य गंभीर आपराधिक मामलों में संलिप्त रहने वाले लोगों की सूची बनाई गई है। उनके खिलाफ मुचलका पाबंद, चलानी रिपोर्ट और जिला बदर की कार्रवाई की जा रही है। पुलिस ने करीब 5 से 8000 लोगों के खिलाफ मुचलका पाबंद, 10000 लोगों के खिलाफ चालानी रिपोर्ट व करीब 200 लोगों को जिला बदर करने की कार्रवाई अमल में लाई गई है।

विधायक नाहिद हसन चल रहे फरार

एएसपी ओपी सिंह ने कहा कि जिले में चुनाव को शांतिपूर्ण कराने के लिए यह कार्रवाई आगे भी की जाएगी। जिला बदर कराने के लिए जिलाधिकारी कोर्ट और अपर जिलाधिकारी कोर्ट में कई लोगों की फाइलें भेजी जा चुकी हैं। जिनको जल्दी ही 6 महीने के लिए जिला बदर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कैराना विधायक नाहिद हसन भी कैराना से गैंगस्टर की कार्रवाई में फरार चल रहे हैं। जो अभी जिले में नहीं रह रहे हैं।

यूपी चुनाव को लेकर बरती जा रही सावधानी

दरअसल मामला यूपी चुनाव के प्रथम चरण को शांतिपूर्ण कराने का है। जहां जनपद में पहले चरण में होने वाली चुनाव को लेकर जिला के चुनाव आयोग के अधिकारी शांतिपूर्ण कराने के लिए जद्दोजहद में लगे हुए हैं। वहीं पुलिस प्रशासन ने भी चुनाव में हुड़दंग करने, बवाल मचाने और दूसरे लोगों को डराने धमकाने और कई अपराधिक मामलों में संलिप्त रहने वाले लोगों की सूची तैयार कर उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है।