श्रावस्ती में सीडीओ ने विद्यालयों का किया निरीक्षण:सीडीओ ने बच्चों से पूछे प्रश्न हल, हिंदी और गणित के प्रश्न भी करवाए हल

श्रावस्ती2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्रावस्ती में शिक्षा का स्तर कुछ समय पहले काफी नीचे था। शिक्षा व्यवस्थाओं को बेहतर करने और शिक्षा व्यवस्थाओं की जमीनी हकीकत परखने के लिए जनपद में अब आला अधिकारियों के द्वारा लगातार परिषदीय विद्यालयों का निरीक्षण किया जा रहा है। वहीं शिक्षा व्यवस्थाओं में सुधार को लेकर जरूरी दिशा निर्देश भी दिए जा रहे हैं। निरीक्षण के दौरान बच्चों को उनकी रूचि के अनुसार पढ़ाने के निर्देश दिए जा रहे हैं। इसी के साथ ही शिक्षा व्यवस्था की गुणवत्ता परखने के लिए बच्चों से अंग्रेजी हिंदी और गणित के प्रश्न भी हल करवाए जा रहे।

इसी के क्रम में मुख्य विकास अधिकारी अनुभव सिंह ने विकास खण्ड गिलौला के अन्तर्गत संविलियन विद्यालय दिकौली का औचक निरीक्षण कर जायजा लिया। विद्यालय में उपस्थिति पंजिका का निरीक्षण करने पर पंजीकरण के सापेक्ष उपस्थिति कम होने पर मुख्य विकास अधिकारी ने विद्यालय के प्रधानाध्यापक को पंजीकृत बच्चों की शत-प्रतिशत उपस्थिति कराने के निर्देश दिए। वहीं उन्होंने अध्यापकों को लर्निंग आउटकम सिस्टम के माध्यम से छात्र-छात्राओं को पढ़ाने हेतु निर्देशित किया। वहीं बच्चों को भी लग्न से पढ़ कर आगे बढ़ने के लिए प्रेरित किया।

सीडीओ ने किया निरीक्षण।
सीडीओ ने किया निरीक्षण।

सीडीओ ने छात्र-छात्राओं को पढ़ाया
बताते चले कि इस दौरान मुख्य विकास अधिकारी ने गणित विषय के प्रश्न को भी हल कर छात्र-छात्राओं को पढ़ाया भी। इसके साथ ही छात्र-छात्राओं से प्रश्न पूछकर दी जा रही शिक्षा की गुणवत्ता की जांच किया। वहीं उन्होंने बच्चों से उनके जिज्ञासा को भी जाना। तथा मन लगाकर पढ़ाई करने के लिए उन्हें प्रेरित किया। उन्होंने विद्यालय में बने मध्यान्ह भोजन की भी जानकारी ली।

भोजन की गुणवत्ता पर भी विशेष देने के दिए निर्देश
इस दौरान मध्यान्ह भोजन में दाल-रोटी बनी थी। जिस पर उन्होंने प्रधानाध्यापक को निर्देश दिया कि बच्चों को मध्यान्ह भोजन खिलाते समय दरी शेड के नीचे अच्छे से बैठाकर भोजन कराया जाए तथा भोजन की गुणवत्ता पर भी विशेष ध्यान दिया जाए। मुख्य विकास अधिकारी ने विद्यालय में बने शौचालयों की बेहतर ढंग से साफ-सफाई कराने का निर्देश दिया। उन्होंने विद्यालय परिसर में बने किचन, पेयजल, अग्नि शमन यंत्र आदि व्यवस्थाओं का निरीक्षण कर जायजा लिया और सभी व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरूस्त रखने का निर्देश दिया।