इटवा में मुख्यमंत्री जन आरोग्य मेले का आयोजन:124 मरीजों के स्वास्थ्य की हुई जांच, 40 का हुआ कोरोना टेस्ट

इटवा, सिद्धार्थनगर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

इटवा में रविवार को ब्लॉक क्षेत्र के सभी एडिशनल पीएचसी पर मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का आयोजन किया गया। गर्मी के मौसम का असर इस मेले में दिखाई दिया, जहां मरीजों की संख्या काफी अधिक दिखाई दी। जिसमें अधिकांश मरीज सीजनल बीमारी से पीड़ित थे।

कुल 124 लोगों की सेहत जांची गई। आवश्यक जांच की सुविधा मेले में उपलब्ध रही तो मरीजों को नि:शुल्क दवाएं भी दी गईं। मेले में आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों की ओर से प्रचार-प्रसार से संबंधित स्टॉल लगाए गए थे।

झकहिया में सर्वाधिक 43 मरीज आए

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र जिगिना, भदोखर, कठेला और झकहिया में मेला आयोजित किया गया। झकहिया में सर्वाधिक मरीज आए। यहां 43 मरीजों के स्वास्थ्य का परीक्षण किया गया। डॉ. तहताब आलम और होम्यापैथिक चिकित्सक डॉ. इतिका सिंह द्वारा मरीजों का उपचार किया गया।

जिगिना में डॉ. संजीव कुमार के नेतृत्व में स्वास्थ्य मेला आयोजित हुआ। यहां चिकित्सक के स्टॉल के अलावा जांच के लिए अलग से काउंटर बनाए गए थे। जबकि दवाओं का स्टॉल अलग लगाया गया था। यहां 23 मरीजों का उपचार किया गया। हेल्प डेस्क पर भी मरीजों की भीड़ दिखाई दी। भदोखर स्थित पीएचसी पर डॉ. देवेश सिंह की अगुवाई में आरोग्य मेला लगा, जिसमें 33 मरीजों की सेहत जांची गई। कठेला पीएचसी पर डॉ. संदीप द्विवेदी की देख-रेख 25 मरीज देखे गए।

मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले में मरीजों को दी गईं दवाएं।
मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले में मरीजों को दी गईं दवाएं।

40 लोगों की हुई कोरोना जांच

मेले में कोरोना की एंटीजन जांच के लिए अलग से काउंटर लगाए गए। कुल 40 लोगों की कोरोना जांच की गई। इसमें झकहिया पीएचसी पर 4, जिगिना ठाकुर में 20, कठेला में 10 और भदोखर पीएचसी पर 6 लोगों की जांच शामिल रही। किसी की भी रिपोर्ट पॉजिटिव नहीं मिली।

चिकित्साधिकारी डॉ. संजय गुप्ता ने मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का निरीक्षण करते हुए यहां की व्यवस्था को देखा।
चिकित्साधिकारी डॉ. संजय गुप्ता ने मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का निरीक्षण करते हुए यहां की व्यवस्था को देखा।

सीएमओ ने किया निरीक्षण

चिकित्साधिकारी डॉ. संजय गुप्ता ने मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का निरीक्षण करते हुए यहां की व्यवस्था को देखा। आंगनबाड़ी की ओर से लगाए गए स्टॉल को भी देखा। कहा कि कुपोषण बच्चों और गर्भवती महिलाओं की बड़ी जिम्मेदारी आप सभी के ऊपर है। इसलिए सभी कार्यकत्री अपने दायित्वों का निर्वाहन करें। सभी पीएचसी पर आयोजित हो रहे मेले में सभी गंभीरता दिखाएं।

खबरें और भी हैं...