सिद्धार्थनगर में नहीं पूरी हो रही वरासत प्रक्रिया:महीनों चक्कर काटने के बाद भी लोग परेशान

सिद्धार्थनगर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लोगों को काम करवाने के लिए लगाने पड़ रहे चक्कर। - Dainik Bhaskar
लोगों को काम करवाने के लिए लगाने पड़ रहे चक्कर।

सिद्धार्थनगर में वरासत को लेकर शासन ने त्वरित कार्रवाई के लिए दिशा-निर्देश जारी कर रखे हैं, लेकिन जिम्मेदार अपने जिम्मेदारियों के प्रति लापरवाह बने हुए हैं। जिसका खामियाजा आवेदकों को भुगतना पड़ रहा है। महीनों तहसील का चक्कर काटने के बावजूद वरासत प्रक्रिया पूर्ण नहीं हो पा रही हैं।

खतौनी में नहीं दर्ज हो रहा नाम

जिले के डुमरियागंज तहसील क्षेत्र के बहेरिया गांव निवासी जनार्दन प्रसाद पांडेय ने बताया कि उनकी माता के देहांत को 8 माह से अधिक का समय हो चुका है। ऑनलाइन पंजीकरण कराने के बाद तहसील प्रशासन के जिम्मेदारों के पास लगातार चक्कर काट रहा हूं। लेकिन अभी तक खतौनी में नाम दर्ज नहीं हो सका है।

उधर-इधर दौड़ाते हैं कर्मचारी

लेखपाल के पास जाओ तो वो कानूनगो के पास भेजते हैं। कानूनगो के पास जाओ तो वो रजिस्टार कानूनगो के पास भेजते हैं। उनके पास जाओ तो कंप्यूटर कक्ष में भेजते हैं। जहां पर तैनात कर्मचारी बहुत ही बेअंदाजी में बात करते हैं। मामले को लेकर पीड़ित ने डीएम सहित अन्य उच्चाधिकारियों से शिकायत की है।

कार्रवाई की जाएगी

वरासत को लेकर तहसील प्रशासन बेहद गंभीर है। संबंधित जिम्मेदारों को त्वरित कार्रवाई के लिए निर्देशित किया गया है। मामले की जांच करवाई जाएगी। जिसकी भी लापरवाही सामने आएगी, उसके विरुद्ध कार्रवाई निश्चित है।

खबरें और भी हैं...