पहाड़ों पर बारिश के चलते बढ़ा राप्ती नदी का जलस्तर:12 से अधिक ग्राम पंचायतों के लोगों की बढ़ी चिंता, सब्जी की खेती करने वालों को हुआ भारी नुकसान

सिद्धार्थनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लगातार बढ़ता राप्ती नदी का जलस्तर - Dainik Bhaskar
लगातार बढ़ता राप्ती नदी का जलस्तर

बीते 48 घंटो से राप्ती नदी का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है। प्रदेश के पूर्वी हिस्से में अभी मानूसन की छिटपुट बौंछारें ही पड़ी, लेकिन नेपाल के पहाड़ों पर हो रही लगातार बारिश से राप्ती नदी तेजी से बढ़ रही है। बढ़ता जलस्तर देखकर तटवर्ती ग्राम पंचायत के ग्रामीण सहमे हैं कि अगर बढ़त इसी तरह से बनी रही तो राप्ती इस वर्ष भी तांडव मचाएगी।

जून माह के पहले पखवारे तक तपती गर्मी के कारण राप्ती नदी एक पतली धार के रूप में दिखती थी, लेकिन रविवार की शाम से ही अचानक नदी का जलस्तर बढ़ने लगा। नेपाल के प्यूठान, दांग, भालूवांग आदि जिलों में बारिश लगातार हो रही है। जिसके चलते इन क्षेत्रों से गुजरकर आने वाली राप्ती के बढ़त का क्रम मंगलवार को भी जारी रहा।

लगातार बढ़ रहा राप्ती नदी का जलस्तर
लगातार बढ़ रहा राप्ती नदी का जलस्तर

लगातार बढ़ रहा राप्ती नदी का जलस्तर
डुमरियागंज तहसील छेत्र के तटवर्ती ग्राम पंचायत वीरपुर कोहल, जूड़ीकुइयां, असनहरा, पिकौरा, रमवापुर उर्फ नेबुआ, बेतनार सहित एक दर्जन ग्राम पंचायत के लोग भयभीत हैं कि कहीं बाढ़ की स्थिति न उत्पन्न हो जाए। लोगों के मुताबिक तीन सेंटीमीटर तक की बढ़त हो चुकी है।

शाहपुर-भोजपुर बांध का चल रहा काम
राप्ती के कहर से ग्राम पंचायतों को बचाने के लिए शाहपुर-भोजपुर बांध पर कुछ जगह काम चल रहा है, लेकिन अभी अधिकतर कार्य अपूर्ण हैं। ऐसे में जिन गैप को अभी भूमि अधिग्रहण न होने के कारण भरा नहीं जा सका। वहां रिहाईशी इलाकों में पानी घुसने की पूरी संभावना जताई जा रही है।

सब्जी की खेती करने वालों को हुआ भारी नुकसान
जलस्तर के बढ़ने के कारण नदी के तट पर खीरा, ककड़ी, तरबूज, खरबूज, परवल की खेती करने वाले किसानों को नुकसान हुआ है। एसडीएम डुमरियागंज विकास कश्यप ने कहा कि हम जलस्तर पर नजर बनाए हुए हैं, सिंचाई विभाग को निर्देश दिया गया है कि बाढ़चौकियों को अलर्ट करें।

खबरें और भी हैं...