सिद्धार्थनगर के मंडी में बकरे की कीमत लगी 2 लाख:पीठ पर लिखा है 'मोहम्मद', आकर्षण का बना केंद्र, ईद उल अजहा महज 11 दिन पूर्व

सिद्धार्थनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
2 लाख का नामी बकरा - Dainik Bhaskar
2 लाख का नामी बकरा

सिद्धार्थनगर जिले के डुमरियागंज तहसील क्षेत्र स्थित हल्लौर की बकरा मंडी पूरे पूर्वांचल में प्रसिद्ध है। ईद उल अजहा(बकरीद) के त्योहार से एक माह पूर्व कुर्बानी के संबंध में जानवरों की क्रय बिक्री का क्रम शुरू हो जाता है।

उक्त बाजार में फैजाबाद, सुल्तानपुर,बनारस, अकबरपुर, बाराबंकी, बहराइच, गोंडा, बलरामपुर आदि जगहों से व्यापारी बकरों को बेचने के लिए आते हैं। जिसे क्षेत्र के लगभग 50 किलोमीटर के क्षेत्रफल के लोग खरीदने के लिए आते हैं।

मंडी में कीमती बकरों की लगी बोली
त्योहार के लगभग 11 दिन पूर्व लगी मंडी में जानवरों का दाम आसमान छू रहा है। लेकिन आस्था के आगे इन कीमतों का कोई मोल नहीं है। प्रतिवर्ष क्षेत्र के लाखों मुस्लिम समुदाय के लोग 10 से 13 बकरीद तक अल्लाह की राह में त्याग और कुर्बानी के इस त्योहार के अवसर पर जानवरों (बकरा) की कुर्बानी देते हैं।

बकरे की पीठ पर लिखा मोहम्मद
बकरे की पीठ पर लिखा मोहम्मद

बीते मंगलवार को हल्लौर स्थित लगी बकरा मंडी में स्थानीय जनपद के तहसील नौगढ़ अंतर्गत सोनपुर गांव निवासी अबुल कासिम का बकरा आकर्षण का केंद्र बना रहा। जिस पर मोहम्मद लिखा हुआ था। मुस्लिम समुदाय के लिए यह नाम बहुत ही पवित्र और आस्था का प्रतीक है।

बकरे के मालिक ने लगाई ऊंची बोली
बकरे के पीठ पर इस्लाम धर्म के प्रवर्तक हजरत मोहम्मद साहब के नाम का अंकित होना ही उसकी कीमतों में बढ़ोतरी करने का कारण बना है। मंडी में आए बकरे के मालिक ने उसका दाम दो लाख रुपये रखा हुआ है। जबकि खरीदारों ने उसकी कीमत एक लाख बीस हज़ार तक लगाई है।

त्यौहरा के आते ही बकरों के दामों में आएगा भारी उछाल
लेकिन अबुल कासिम का कहना है कि मैंने दाम लगा दिया है। यदि हमें दो लाख मिलेगा, तो मैं यह बकरा बेचूगा नहीं तो मैं इसे वापस अपने घर लेकर चला जाऊंगा। वहीं दूसरी तरफ अपनी सुंदरता और कुछ अरबी लिखावट से सजा हुआ बाबरी नस्ल का बकरा, जिसका नाम शेरू बताया जा रहा है।

जिसके मालिक अब्दुल रउफ ने उसका दाम पचपन हज़ार लगाया है। लोगों ने कहा कि त्यौहार आते आते बकरों की कीमतों में आसमानी उछाल आएगा, अभी तो यह शुरुआत है, आगे आगे देखिए होता है क्या।

खबरें और भी हैं...