सिद्धार्थनगर की डुमरियागंज तहसील में नहीं हुई एक भी रजिस्ट्री:18 लाख का हुआ नुकसान, वकील बोले- सर्किल रेट से अधिक की हो रही वसूली

सिद्धार्थनगर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सिद्धार्थनगर जिले की डुमरियागंज तहसील में मंगलवार को भी वकील हड़ताल पर रहे। उनका आरोप है कि बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष इद्रमणि पांडेय के साथ मारपीट हुई थी। इस पर पुलिस आरोपियों के साथ ढिलाई कर रही है। इसके अलावा डुमरियागंज उप-निबंधक कार्यालय पर तय सर्किल रेट से अधिक लेकर बैनामा किया जा रहा है। कलमबंद हड़ताल के कारण दो दिन में लगभग 18 लाख रुपए के राजस्व की क्षति हुई है। उप-निबंधक कार्यालय इस बात को स्वीकार कर रहा है।

उप-निबंधक कार्यालय में सन्नाटा छाया रहा

वकीलों ने सोमवार से हड़ताल शुरू की। मंगलवार को भी उप-निबंधक कार्यालय में सन्नाटा छाया रहा। हड़ताल के कारण मंगलवार को एक भी रजिस्ट्री नहीं हुई। जबकि, विभाग ने जून माह में 2 करोड़ 48 लाख की राजस्व प्राप्ति का लक्ष्य डुमरियागंज को सौंपा है।

बार अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह ने बताया कि तहसील क्षेत्र में रेलवे लाइन सर्वे व भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया गतिमान है। इसके कारण अगस्त 2017 से सर्किल रेट नहीं बढ़ा है। इसके बावजूद रजिस्ट्रार मनमानी तरीके से सर्किल रेट बढ़ा कर शोषण कर रहे हैं। इसे अधिवक्ता संगठन किसी भी दशा में सहन नहीं करेगा।

उप-निबंधक छुट्टी पर हैं

बताया कि पैरा दो की रजिस्ट्री की जगह पैरा चार के हिसाब से रजिस्ट्री कराई जा रही है। यह पैसा सरकार के खाते में न जाकर उप-निबंधक व कर्मियों की जेब में जा रहा है। प्रभारी उप-निबंधक हरिराम गुप्ता ने बताया कि उप-निबंधक छुट्टी पर हैं। आने पर वही जानकारी देंगे कि अधिक सर्किल रेट के हिसाब से बैनामा क्यों करा रहे हैं। दो दिन में एक भी रजिस्ट्री नहीं हुई है। औसतन 18 लाख रुपए का नुकसान हुआ है।

खबरें और भी हैं...