सिद्धार्थनगर में अंतरिक्ष प्रयोगशाला का होगा निर्माण:सरकारी स्कूल में ये देश की होगी पहली प्रयोगशाला, 8 लाख 26 हजार होगा निर्माण

सिद्धार्थनगर2 महीने पहले

यूपी के अति पिछड़े जनपदों में से एक सिद्धार्थनगर जिले के एक सरकारी स्कूल में अंतरिक्ष प्रयोगशाला का निर्माण होने जा रहा है। सरकारी स्कूल में निर्मित होने वाली यह प्रयोगशाला देश की पहली प्रयोगशाला होगी। सरकारी स्कूल में अंतरिक्ष प्रयोगशाला बनाने की राह में अग्रणी पूर्व माध्यमिक स्कूल डुमरियागंज तहसील क्षेत्र के हसुड़ी औसानपुर में स्थित है।

अंतरिक्ष प्रयोगशाला के निर्माण का काम 10 अक्टूबर से शुरू होकर 15 नवंबर तक चलेगा। जिसका निर्माण व्योमिका स्पेस अकादमी द्वारा किया जाएगा। यह संस्था इसरो से सम्बद्ध है। स्पेस वीक के पहले दिन यानी 4 अक्टूबर इस स्कूल के 7 छात्रों का चयन के लिए एक परीक्षा आयोजित की गई।

संस्था दिसम्बर माह मे अहमदाबाद ले जायेगी
इस परीक्षा में सर्वाधिक अंक प्राप्त करने वाले 7 छात्रों को स्पेस एजुकेशन हेतु यह संस्था दिसम्बर माह में अहमदाबाद ले जायेगी। जंहा छात्र अंतरिक्ष के विषय मे जानकारी हासिल कर सकेंगे। प्रयोगशाला निर्माण के बाद स्कूल में ऑनलाइन और ऑफलाइन कक्षाओं के माध्यम से छात्रों को अंतरिक्ष विज्ञान की पढ़ाई कराई जाएगी। जिसके लिए इसरो के रिटायर्ड वैज्ञानिक 2 घंटे की ऑनलाइन क्लास लेंगे।

समय समय पर स्कूल में ऑफलाइन कक्षाएं भी संचालित की जायेगीं। इसको लेकर जब हमने बात की ग्राम प्रधान दिलीप त्रिपाठी से तो उन्होंने इसकी पुष्टि की। उन्होंने कहा कि हमारे गाँव व जनपद के बच्चे इसरो अंतरिक्ष स्पेस में अपना कैरियर बनाये और देश की सेवा कर सके।

जूनियर क्लास के बच्चों की एक परीक्षा होगी
उन्होंने आगे बताया "इसी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए व्योमिका स्पेस प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ गोविंद यादव से मिलकर आगे की तैयारी में जुट गए। इसी क्रम में जूनियर क्लास के बच्चों की एक परीक्षा आयोजित की। इस परीक्षा के परिणाम के आधार पर 7 छात्रों का चयन किया जाएगा। इन्हें अंतरिक्ष विज्ञान की जानकारी के लिए अहमदाबाद ले जाया जाएगा। इस प्रयोगशाला के निर्माण की लागत 8 लाख 26 हज़ार होगी। यह पंचायत निधि से खर्च की जाएगी।

खबरें और भी हैं...