सिद्धार्थनगर में घर में खड़ी गाड़ी का कटा टोल टैक्स:टोल मैनेजर बोले-  गलती के लिए मांग रहे हैं माफी

सिद्धार्थनगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिद्धार्थनगर में एनएचएआई के कर्मचारी ने घर पर खड़ी गाड़ी का काट दिया टोल टैक्स। - Dainik Bhaskar
सिद्धार्थनगर में एनएचएआई के कर्मचारी ने घर पर खड़ी गाड़ी का काट दिया टोल टैक्स।

सिद्धार्थनगर में लापरवाही का एक हैरतअंगेज मामला देखने को मिला है। घर पर खड़ी एक गाड़ी का फास्ट टैग से टोल टैक्स काट दिया गया। जिसकी गाड़ी का टोल टैक्स काटा गया। उसे फोन पर मैसेज आया। जिसे पहले तो उसने नजरअंदाज कर दिया। लेकिन बाद एनएचएआई के टोल फ्री नंबर पर शिकायत दर्ज करवाई। तो मैनेजर ने कहा कि गलती हो गई है, माफी मांग रहे हैं। हमने गलती करने वाले अपने कर्मचारी को निकाल दिया है।

6 दिसंबर को पीड़ित गए थे बढ़नी

जिले के एनएच 730 पर स्थित गोलहौरा टोल प्लाजा का यह मामला है। यहां से मुमताज अपने परिवार के साथ अपनी गाड़ी से 6 दिसंबर की सुबह बढ़नी जाते हैं। और दोपहर 2 बजे वापस लौट आते है। टोल शुल्क कटने का मैसेज भी आता है। उसी शाम जब वह घर पर थे।

दो बार काटे गए पैसे

तभी लगभग 5 बजे फिर से टोल शुल्क कटने का मैसेज आता है। जिसे वह नजरअंदाज कर देते है। लेकिन अगले दिन 7 दिसम्बर को वह घर पर थे। तब दोबारा यूपीआई के माध्यम से टोल शुल्क कटने का मैसेज फोन पर आता है। जिससे परेशान होकर वह एनएचएआई के टोल फ्री नंबर पर शिकायत दर्ज कराते हैं।

मैनेजर बोले- वापस ले लीजिए पैसे

जिसके बाद एनएचएआई व टोल मैनेजर का फोन आता है कि आप रुपए वापस ले लें। इस मामले को लेकर पीड़ित का कहना है कि एनएचएआई व यूपीआई दोनों देश के महत्वपूर्ण प्रतिष्ठान है। टोल प्लाजा में फास्ट टैग से शुल्क काटने के लिए ऑटोमैटिक मशीनरी लगी है। तब घर खड़े वाहन के फास्ट टैग को स्कैन किए बिना टोल कर्मी किस विधि से टोल शुल्क काट सकते है । इसका खुलासा होना चाहिए।

वही इस मामले को लेकर टोल मैनेजर संजय ने बताया कि टोल कर्मचारी की गलती से ऐसा हुआ है। हमने उस कर्मचारी को निकाल दिया है । हम माफी मांग रहे है। और क्या करे।

खबरें और भी हैं...