सीतापुर में बजरंग मुनि जिला अस्पताल में धरने पर बैठे:शहर कोतवाल पर गंभीर आरोप लगाते हुए कार्यवाई की मांग, बोले- भ्रष्ट है शहर कोतवाल

सीतापुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीतापुर में पुलिस की कार्यशैली से नाराज बाबा बजरंग मुनि धरने पर बैठे - Dainik Bhaskar
सीतापुर में पुलिस की कार्यशैली से नाराज बाबा बजरंग मुनि धरने पर बैठे

सीतापुर में उदासीन अखाड़े के सदस्य और बड़ी संगत के महंत बाबा बजरंग मुनि शनिवार की देर रात धरने पर बैठ गए। शहर कोतवाली इंस्पेक्टर तेज प्रकाश सिंह की लापरवाह कार्यशैली से नाराज होकर जिला अस्पताल परिसर में ही धरने पर बैठ गए। बजरंग मुनि ने इंस्पेक्टर कोतवाली पर गंभीर आरोप लगाते हुए मामले में तत्काल इंस्पेक्टर को निलंबित करने और आरोपियों पर कार्रवाई की मांग पर अड़ गए। एसडीएम सदर और सीओ सिटी के काफी मशक्कत और कार्रवाई के आश्वासन के बाद बाबा बजरंग ने धरने को खत्म कर वापस अपने आश्रम रवाना हो गए।

दबंगो के हमले में घायल युवक का जिला अस्पताल में हो रहा इलाज
दबंगो के हमले में घायल युवक का जिला अस्पताल में हो रहा इलाज

दबंगो ने किया था घायल

घटना शहर कोतवाली क्षेत्र के ग्वाल मंडी इलाके की है। यहां पर हिन्दू समुदाय के एक युवक की विशेष समुदाय के कुछ दबंगों द्वारा बेरहमी से पिटाई कर दी गई। परिजनों का आरोप है कि मोहल्ले के विशेष समुदाय के दबंग उसके बेटे को परेशान करते थे और पुलिस को शिकायत भी की गई लेकिन कोई कार्यवाही नही हुई और आज दबंगों ने उसे बेरहमी से पीटा।

युवक को गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस सनसनीखेज वारदात की जानकारी मिलते ही खैराबाद स्थित बड़ी संगत के महंत बाबा बजरंग मुनि जिला अस्पताल आ पहुंचे और पीड़ित परिवार से मिलकर न्याय दिलाने का आश्वासन दिया।

बाबा के हंगामे के दौरान अस्पताल में मौजूद समर्थक और पुलिस बल
बाबा के हंगामे के दौरान अस्पताल में मौजूद समर्थक और पुलिस बल

कोतवाली इंस्पेक्टर पर गंभीर आरोप

बाबा बजरंग का कहना है कि शहर कोतवाली इंस्पेक्टर समुदाय विशेष के कुछ लोगों ने पैसे लेकर अपनी जेबें गरम करता है और आये दिन आपराधिक घटनाओं को अपराधी अंजाम दे रहे है। बाबा का आरोप है कि इंस्पेक्टर ने इस मारपीट के मामले में शिकायती पत्र मिलने के बाद भी कोई कार्रवाई नही की और इसी के चलते ही आज यह बड़ी घटना हो गई।

बाबा ने सैकड़ों समर्थकों संग इंस्पेक्टर पर कार्रवाई की मांग को लेकर घंटों प्रदर्शन किया। एसडीएम सदर अनिल कुमार और सीओ सिटी सुशील सिंह द्वारा जांच कराकर आवश्यक कार्रवाई का आश्वासन मिलने के बाद बाबा ने हंगामा खत्म कर दिया।

खबरें और भी हैं...