सीतापुर में किसान दिवस में किसानों ने गिनाई समस्याएं:डीएम ने समय से निस्तारण के दिये निर्देश,बेसहारा पशु बने समस्या

सीतापुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीतापुर में बैठक के दौरान किसानों की समस्याओं को सुनते डीएम अनुज सिंह - Dainik Bhaskar
सीतापुर में बैठक के दौरान किसानों की समस्याओं को सुनते डीएम अनुज सिंह

सीतापुर में डीएम अनुज सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में किसान दिवस का आयोजन किया गया। इस दौरान उप कृषि निदेशक द्वारा गत किसान दिवस बैठक में प्राप्त समस्याओं के निस्तरण की स्थिति से अवगत कराया गया और इसके बाद कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मौसम की वर्तमान परिस्थितियों के दृष्टिगत समसामायिक जानकारी प्रदान करते हुये अपनी भूमि में जीवांश कार्बन की मात्रा बनाये रखने तथा कीट/रोगों से अपनी फसल को बचाने हेतु रासायनिक उपाय के स्थान पर अन्य वैकल्पिक माध्यमों का उपयोग करने की सलाह किसान भाइयों को दी गयी। जिला गन्ना अधिकारी एवं मुख्य पशु चिकित्साधिकारी द्वारा विभागीय योजनाओं की जानकारी दी गयी।

बेसहारा पशुओं का उठा मुद्दा

इस बैठक के दौरान किसान दिवस में अधिकांश किसानों द्वारा बेसहारा पशुओं की समस्या प्रमुखता से उठाई गयी। जिलाधिकारी नर बताया कि प्रशासन द्वारा इस क्षेत्र में पूर्ण मनोयोग से कार्य किया जा रहा है,किन्तु आम जनमानस से आपेक्षित सहयोग प्राप्त नहीं हो पा रहा है।

कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक में मौजूद किसान और अधिकारी
कलेक्ट्रेट सभागार में बैठक में मौजूद किसान और अधिकारी

जनपद के सभी बेसहारा पशुओं को गौशालाओं में संरक्षित करने हेतु दिनांक-31 दिसम्बर 2022 का लक्ष्य निर्धारित करते हुये कार्यक्रम का रोड-मैप तैयार कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि दो अति वृहद गौ-संरक्षण केन्द्रों हेतु भूमि चिन्हित कर प्रस्ताव शासन को प्रेषित किया गया है।जिलाधिकारी ने बताया कि आम जनमानस एवं किसान प्रतिनिधियों से अपील की गयी कि बेसहारा गोवंशों को पकड़वाने एवं गौशाला तक पहुंचाने में प्रशासन का सहयोग करें।

30 रु मिलता प्रोत्साहन राशि

डीएम ने बैठक में अवगत कराया कि गौशालाओं से बेसहारा पशुओं को पालन हेतु गोद लेने पर शासन द्वारा प्रति गोवंश प्रतिदिन 30 रू0 की प्रोत्साहन धनराशि प्रदान की जा रही है,किन्तु आम जनमानस द्वारा गोवंश संरक्षण के कार्य में रूचि नहीं ली जा रही है,जबकि बेसहारा पशुओं की इस सामाजिक समस्या का निदान प्रशासन एवं समाज दोनो की आपसी भागीदारी से निकाला जा सकता है। इस कार्यक्रम में उप कृषि निदेशक डा0 एस0के0 सिंह, जिला कृषि अधिकारी मनजीत कुमार, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डा0 प्रभात कुमार सिंह के साथ ही किसान दिवस से सम्बन्धित अधिकारी/कर्मचारी एवं किसान भाई तथा विभिन्न किसान संगठनों के पदाधिकारी उपस्थित रहें।

खबरें और भी हैं...