अगर आप भी चाय के शौकीन तो सावधान हो जाएं:सीतापुर में 2.75 लाख की नकली चायपत्ती बरामद, जांच के लिए लैब भेजा गया सैंपल

सीतापुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग की टीम ने छापेमारी के दौरान नकली चायपत्ती बनाने और उसमें रंग मिलाने वाले एक कारोबारी के यहां छापा मारकर बड़ी खेप बरामदगी की है। - Dainik Bhaskar
खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग की टीम ने छापेमारी के दौरान नकली चायपत्ती बनाने और उसमें रंग मिलाने वाले एक कारोबारी के यहां छापा मारकर बड़ी खेप बरामदगी की है।

सीतापुर में अगर आप रहकर ठेलों और होटलों पर चाय पीने के शौकीन हैं तो अब आप सावधान हो जाएं क्योंकि खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग की टीम ने छापेमारी के दौरान नकली चायपत्ती बनाने और उसमें रंग मिलाने वाले एक कारोबारी के यहां छापा मारकर बड़ी खेप बरामदगी की है।

टीम में यहां बनी हुई चायपत्ती और केमिकल सहित रंग को सीज कर दिया है। टीम के मुताबिक, सीज की गयी चायपत्ती की कीमत लगभग 2.75 लाख के करीब बतायी जा रही हैं। टीम ने बरामद चायपत्ती और केमिकल के नमूने को एकत्र करते हुए जांच के लिए लैब भेज दिया है।

नकली चायपत्ती की शिकायत पर छापेमारी

खाद्य सुरक्षा एवं औषधि विभाग की टीम को शहर में सूचना मिली थी कि शहर के पुराने सीतापुर में केमिकल को मिलाकर बड़े पैमाने पर चायपत्ती बनाकर बाजारों में बेची जा रही है। इसी शिकायत के आधार पर टीम मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी संतोष कुमार ने टीम और पुलिस के दल बल के साथ काजियारा निवासी लईक अमहद के आवास पर छापेमारी की।

इस छापेमारी के दौरान टीम को केमिकल से बनी तकरीबन सवा कुंतल से अधिक चायपत्ती की खेप को जब्त किया और तकरीबन 30 किलो केमिकल वाले रंग भी सीज करते हुए नमूने जांच के लिए प्रयोगशाला भेज दिए।

लोगों की सेहत से हो रहा था खिलवाड़

मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी संतोष कुमार ने बताया कि मौके से बरामद 125 किलो चायपत्ती की कीमत तकरीबन 2.75 लाख रुपये है। उनका कहना है कि चायपत्ती और केमिकल के नमूने को जांच के लिए लैब भेजा गया है और उसकी रिपोर्ट आने के उपरांत कारोबारी के खिलाफ कार्यवाई की जाएगी। उनका कहना है कि लोगों की सेहत से खिलवाड़ कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...