लखीमपुर खीरी हिंसा मामला:प्रियंका बोलीं- मंत्री के बेटे की गिरफ्तारी तक नहीं रुकेंगे, सीतापुर गेस्ट हाउस के बाहर कांग्रेसी जमे; लखनऊ में धारा 144 लागू

सीतापुर2 महीने पहले

लखीमपुर खीरी हिंसा में मारे गए किसानों के परिवारों से मिलने की कोशिश में अरेस्ट की गईं प्रियंका गांधी ने मंगलवार रात फोन पर कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्हें हिरासत में लिए जाने के बाद से ही गेस्ट हाउस में रखा गया है। कार्यकर्ता इसी गेस्ट हाउस के बाहर जुटे हुए हैं।

उधर, राहुल गांधी बुधवार को सीतापुर आने वाले हैं। राहुल गांधी के दौरे से पहले प्रशासन ने राजधानी लखनऊ में 8 अक्टूबर तक धारा 144 लगा दी है। यह तत्काल प्रभाव से लागू कर दी गई है। कांग्रेस ने राहुल के दौरे से पहले मंगलवार को योगी सरकार को चिट्‌ठी लिखकर दौरे की अनुमति मांगी थी, हालांकि प्रशासन ने इससे इनकार कर दिया है।

इधर, प्रियंका गांधी ने देर शाम सीतापुर गेस्ट हाउस के बाहर प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को फोन से संबोधित किया। प्रियंका ने कहा- जब कोई किसान संघर्ष या आंदोलन में अपनी जान गंवाता है तब उसे हम मृतक नहीं कहते, उसे शहीद कहते हैं।

गृह मंत्री जनता को धमकाते हैं
कांग्रेस महासचिव ने कहा- आज एक ऐसी कायर सरकार है कि इन्हीं का गृह मंत्री जनता को धमकाता है। वो जनता की आवाज से डरता है। उसका बेटा गाड़ी के पहियों तले किसानों को कुचल देता है और ये कायरों की सरकार इन अपराधियों पर कार्रवाई करने के बजाय अपनी पूरी पुलिस फोर्स को एक विपक्ष की महिला को रोकने के लिए लगा देती है। जब ये हादसा हुआ तो कहां थी ये पुलिस, कहां थी ये सरकार, कहां था ये प्रशासन।

सीतापुर गेस्ट हाउस के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ता। यहां प्रियंका ने फोन से संबोधित किया।
सीतापुर गेस्ट हाउस के बाहर कांग्रेस कार्यकर्ता। यहां प्रियंका ने फोन से संबोधित किया।

किसानों के आंसू पोछने नहीं आए PM
प्रियंका आगे बोलीं- मोदी जी मैं आपसे पूछना चाहती हूं कि आपकी नैतिकता कहां है? एक पुराना श्लोक है- एकमेव परमो धर्म: यद राजा रक्षित प्रजा, उत्थानाम ही यथा धर्म: रक्षणम परमो दया। इसका अर्थ है- जनता की रक्षा सबसे बड़ा धर्म है। सभी जीवों के प्रति रक्षा और दया रखना एक राजा का धर्म है। आज मोदी जी आजादी का अमृत महोत्सव मनाने के लिए यहां से 100 किलोमीटर दूर आए थे, लेकिन PM किसानों के आंसू पोछने के लिए लखीमपुर खीरी नहीं आ पाए।

सीतापुर में प्रियंका गांधी के गेस्ट हाउस के बाहर की स्ट्रीट लाइट देर रात काट दी गई। यहां कांग्रेस कार्यकर्ता दो दिनों से लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं।
सीतापुर में प्रियंका गांधी के गेस्ट हाउस के बाहर की स्ट्रीट लाइट देर रात काट दी गई। यहां कांग्रेस कार्यकर्ता दो दिनों से लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं।

आरोपी की गिरफ्तारी तक नहीं झुकेंगे
प्रियंका ने कहा- इस सरकार को मैं कहना चाहती हूं कि हम कांग्रेस के सिपाही हैं। कांग्रेस समझती है कि इन किसानों ने इस देश के लिए क्या किया है। हम समझते हैं कि इस देश की रीढ़ की हड्‌डी किसान हैं। हम तुम्हारी तरह कायर नहीं हैं। हम तुम्हारी तानाशाही के सामने नहीं झुकेंगे। तुम जितना मुझे रोकने की कोशिश करोगे मैं उतनी ही बुलंदी के साथ किसानों की आवाज उठाऊंगी। हमारा संघर्ष तब तक समाप्त नहीं होगा जब तक मंत्री का अपराधी बेटा गिरफ्तार नहीं होता।

सीतापुर गेस्ट हाउस के मेन गेट पर कांग्रेसियों ने मोमबत्ती जलाकर प्रदर्शन किया।
सीतापुर गेस्ट हाउस के मेन गेट पर कांग्रेसियों ने मोमबत्ती जलाकर प्रदर्शन किया।

गेस्ट हाउस को बनाया अस्थाई जेल
इससे पहले प्रियंका को सीतापुर में PAC के गेस्ट हाउस में 30 घंटे हिरासत में रखने के बाद गिरफ्तार किया गया। उनके खिलाफ धारा 144 के उल्लंघन और शांति भंग की आशंका जैसी धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है। फिलहाल पुलिस ने गेस्ट हाउस को ही अस्थाई जेल के रूप में तब्दील कर दिया है। प्रियंका समेत 11 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। इनमें कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा और UP कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के नाम भी शामिल हैं।

आज राहुल लखनऊ जाएंगे
इधर, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी बुधवार को उत्तर प्रदेश पहुंचेंगे। राहुल लखनऊ से सीतापुर होते हुए लखीमपुर खीरी जाएंगे। राहुल 5 सदस्यीय कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल के साथ सुबह 12:30 बजे लखनऊ एयरपोर्ट पहुंचेंगे। हालांकि, पुलिस की मुस्तैदी को देखते हुए कांग्रेस सांसद का लखनऊ से बाहर जाना मुश्किल लग रहा है।

इससे पहले कांग्रेस महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल ने UP के CM योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर राहुल गांधी के नेतृत्व वाले प्रतिनिधिमंडल को बुधवार को लखीमपुर खीरी जाने देने की अनुमति मांगी है। वेणुगोपाल ने चिट्‌ठी में लिखा कि जिस तरह UP सरकार ने पश्चिम बंगाल के नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति दी, उसी भावना से कांग्रेस को भी इजाजत दी जानी चाहिए। हालांकि देर रात UP सरकार ने इससे इनकार कर दिया।

जांच के लिए 6 सदस्यीय SIT का गठन
लखीमपुर खीरी में रविवार को हुई हिंसा मामले की अब छह सदस्यीय SIT जांच करेगी। IG लखनऊ ने बताया कि इस मामले में केंद्रीय गृहराज्य मंत्री के बेटे आशीष मिश्र को नामजद आरोपी बनाया है। सूत्रों के मुताबिक, मामले की न्यायिक कमेटी से भी जांच कराई जानी है। इसके लिए कमेटी की बुधवार को घोषणा की जाएगी।

पुलिस ने प्रियंका समेत 11 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है, इनमें कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा और UP कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के नाम भी शामिल हैं।
पुलिस ने प्रियंका समेत 11 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है, इनमें कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा और UP कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के नाम भी शामिल हैं।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया हंगामा
इससे पहले दिन में प्रियंका की गिरफ्तारी से नाराज कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने PAC गेस्ट हाउस के बाहर हंगामा किया। उन्होंने बैरिकेड्स तोड़ दिए और नारेबाजी की। कार्यकर्ताओं की पुलिस से झड़प भी हुई, क्योंकि कार्यकर्ता खाना बनाने का सामान और टेंट लेकर पहुंच गए थे और पुलिस ने उन्हें रोक दिया।

अपडेट्स

  • राजनीतिक सरगर्मियों के बीच किसान नेता राकेश टिकैत ने ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा- लखीमपुर खीरी में फैसला आंदोलन की समाप्ति नहीं है। सरकार से मंत्री को बर्खास्त कर मंत्री व उनके बेटे को तुरन्त गिरफ्तार किया जाय। सरकार को तय सीमा में अपने वादे पूरे करे।
  • कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा है UP पुलिस की कार्रवाई गैर-कानूनी और शर्मनाक है। चिदंबरम ने दावा किया है कि प्रियंका को सुबह 4.30 बजे सूरज उगने से पहले मेल पुलिसकर्मी ने हिरासत में लिया था।
  • प्रियंका गांधी से मिलने सीतापुर जा रहे छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पुलिस ने लखनऊ एयरपोर्ट पर रोक दिया।
  • केंद्रीय राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी ने कहा है कि उन्हें नहीं पता कि लखीमपुर की घटना कैसे हुई। जो वीडियो और फोटो सामने आए हैं उनमें दिख रहा है कि कार से निकालकार ड्राइवर की हत्या कर दी गई। अगर वहां मेरा बेटा होता तो वह मारा जाता, क्योंकि उस जगह से निकलना मुश्किल था।
  • हिंसा में मारे गए किसान लवप्रीत सिंह के परिजन इस बात पर अड़ गए हैं कि जब तक ऑटोप्सी रिपोर्ट और आरोपी आशीष मिश्र के खिलाफ दर्ज की गई FIR की कॉपी नहीं दी जाती, तब तक अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।

वहीं प्रियंका ने सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया है। उन्होंने किसानों को जीप से कुचलने का वीडियो शेयर करते हुए पूछा है, 'आप आजादी का अमृत उत्सव मनाने लखनऊ आए हैं। आपने लखीमपुर खीरी का यह वीडियो देखा है। जिसमें आपकी सरकार के एक मंत्री के बेटे की गाड़ी के नीचे किसानों को कुचलते हुए दिखाया गया है।'

लखीमपुर में मृतक किसानों को न्याय दिलाने, आरोपियों की गिरफ्तारी, मंत्री की बर्खास्तगी तथा कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा की गिरफ्तारी के विरोध में सीतापुर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मशाल जुलूस निकाला।
लखीमपुर में मृतक किसानों को न्याय दिलाने, आरोपियों की गिरफ्तारी, मंत्री की बर्खास्तगी तथा कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी वाड्रा की गिरफ्तारी के विरोध में सीतापुर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मशाल जुलूस निकाला।

प्रियंका ने PM से सवाल किया है कि मंत्री और उनका बेटा अब तक गिरफ्तार क्यों नहीं हुए हैं? आप इस वीडियो को देखिए और देश को बताइए कि मंत्री को बर्खास्त क्यों नहीं किया गया? और मेरे जैसे विपक्षी नेताओं को बिना किसी FIR के हिरासत में क्यों रखा हुआ है? कांग्रेस महासचिव ने PM मोदी से लखीमपुर आकर पीड़ित किसानों से मिलने का आग्रह किया है।

लखनऊ एयरपोर्ट पर 4 घंटे धरना देने के बाद बैरंग लौटे छत्तीसगढ़ के CM

UP पुलिस ने लखनऊ एयरपोर्ट पर ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को रोक लिया। करीब 4 घंटा धरने पर बैठने के बाद वे लखनऊ से लौट गए।
UP पुलिस ने लखनऊ एयरपोर्ट पर ही मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को रोक लिया। करीब 4 घंटा धरने पर बैठने के बाद वे लखनऊ से लौट गए।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को मंगलवार को लखनऊ एयरपोर्ट से ही लौटा दिया गया है। वे प्रियंका गांधी से मिलने आए थे। उन्हें धारा-144 का तर्क देकर एयरपोर्ट से बाहर नहीं जाने दिया गया। इससे नाराज बघेल 4 घंटे तक वहीं धरने पर बैठ गए। बघेल ने कहा कि उन्होंने लखनवी तहजीब के बारे में खूब सुना था, लेकिन यहां तो बिल्कुल उल्टा है। हम लखीमपुर तो जा नहीं रहे फिर रोकने का औचित्य क्या है? हमारे साथ जबरदस्ती क्यों की जा रही है? सुरक्षाकर्मियों के मनाने के बाद भी बघेल नहीं माने और धरना शुरू कर दिया। पढ़ें पूरी खबर...

भाजपा सांसद वरुण गांधी ने लखीमपुर खीरी हिंसा का वीडियो शेयर किया
भाजपा सांसद वरुण गांधी ने मंगलवार को लखीमपुर खीरी हिंसा से जुड़े एक वीडियो को ट्विटर पर शेयर किया। उन्होंने उत्तर प्रदेश पुलिस के DGP को यह वीडियो टैग करके पुलिस से दोषियों को तत्काल गिरफ्तार करने की मांग की है। वरुण गांधी ने ट्वीट किया, 'लखीमपुर खीरी में किसानों को गाड़ियों से जानबूझकर कुचलने का यह वीडियो किसी की भी आत्मा को झकझोर देगा। पुलिस इस वीडियो का संज्ञान लेकर इन गाड़ियों के मालिकों, इनमें बैठे लोगों, और इस प्रकरण में संलिप्त अन्य व्यक्तियों को चिन्हित कर तत्काल गिरफ्तार करे।' पढ़ें पूरी खबर...

प्रियंका को हिरासत में लेने के बाद से ही कांग्रेस कार्यकर्ता PAC गेस्ट हाउस के बाहर जमा हो गए थे।
प्रियंका को हिरासत में लेने के बाद से ही कांग्रेस कार्यकर्ता PAC गेस्ट हाउस के बाहर जमा हो गए थे।

राहुल बोले- जिसे हिरासत में ले रखा, वो डरती नहीं है

प्रियंका गांधी रविवार रात लखनऊ पहुंची थीं और रात में ही लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसानों के परिवारों से मिलने निकल पड़ीं, लेकिन पुलिस ने सोमवार सुबह 5.30 बजे सीतापुर के हरगांव में उन्हें रोककर हिरासत में ले लिया था।

प्रियंका ने झाड़ू लगाकर किया था हिरासत का विरोध
सोमवार को प्रियंका गांधी ने गेस्ट हाउस के कमरे में झाड़ू लगाते हुए वीडियो जारी किया था। कांग्रेस का कहना था कि प्रियंका हिरासत में लिए जाने का विरोध झाड़ू लगाकर कर रही हैं। वहीं, प्रियंका ने सोशल मीडिया पर लिखा था, 'ये अनशन है अन्नदाता के अधिकार के लिए, संवैधानिक अधिकारों की रक्षा के लिए। भाजपाई हुकूमत हमारे लोकतांत्रिक और संवैधानिक अधिकारों को नहीं कुचल सकती। गांधीजी के पथ पर चलते हुए अधिकारों की लड़ाई जारी रहेगी'।

प्रियंका ने अपनी हिरासत का विरोध गेस्ट हाउस में झाड़ू लगाकर किया था। इसका वीडियो भी सामने आया था।
प्रियंका ने अपनी हिरासत का विरोध गेस्ट हाउस में झाड़ू लगाकर किया था। इसका वीडियो भी सामने आया था।

लखीमपुर में क्या हुआ था?
रविवार को किसानों ने केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र का विरोध करते हुए काले झंडे दिखाए थे। इसी दौरान एक गाड़ी ने किसानों को कुचल दिया था। इससे 4 किसानों की मौत हो गई थी। इसके बाद भड़की हिंसा में किसानों ने एक ड्राइवर समेत चार लोगों को पीट-पीटकर मार डाला था। इस हिंसा में एक पत्रकार भी मारा गया। इस मामले में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र समेत 14 लोगों खे खिलाफ हत्या और आपराधिक साजिश का केस दर्ज किया गया है।

सरकार और किसानों के बीच हुआ समझौता
लखीमपुर खीरी मामले में सरकार और किसानों के बीच समझौता हो गया है। सरकार ने मृतकों के परिवार को 45 लाख रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया है। वहीं सभी मृतकों के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी। साथ ही घटना की न्यायिक जांच और 8 दिन में आरोपियों को गिरफ्तार करने का वादा भी किया गया है।

खबरें और भी हैं...