सीतापुर...11 साल बाद शिक्षिका को मिला न्याय:स्कूल जा रही शिक्षिका की दुष्कर्म के बाद की थी हत्या, आरोपी को मिली उम्रकैद की सजा

सीतापुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीतापुर में 11 साल बाद शिक्षिका को मिला न्याय। - Dainik Bhaskar
सीतापुर में 11 साल बाद शिक्षिका को मिला न्याय।

सीतापुर जिले में 11 वर्ष पूर्व हुए शिक्षिका हत्याकांड में कोर्ट ने आज मुख्य आरोपी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। कोर्ट ने सभी दलीलों को सुनने के बाद आरोपी सुरेश उर्फ बाबा को दुष्कर्म और हत्या के आरोप में आजीवन कारावास के साथ ही 50 हजार रुपए अर्थदंड भी लगाया। शिक्षिका के पति ने न्यायालय का धन्यवाद दिया है और कहा कि उन्हें 11 वर्ष बाद न्याय मिला है। वहीं पुलिस ने आरोपी को जेल भेज दिया है।

स्कूल जाते समय दुष्कर्म के बाद की थी हत्या

मामला मछरेहटा ब्लॉक खंड के भेदेवर इलाके का है। यहां सरोजनी नगर, लखनऊ की निवासी महिला अपने पति के साथ ही शिक्षक पद पर सीतापुर में तैनात थीं। 10 सिंतबर 2009 को शिक्षिका अपने पति के साथ स्कूल के लिए निकलीं। रास्ते में उनके पति सिधौली स्कूल में उतर गए और वह अपने स्कूल के लिए आगे बढ़ गईं। पति के मुताबिक जब वह स्कूल जा रही थीं तभी रास्ते में ही स्थानीय निवासी सुरेश उर्फ बाबा ने उन्हें दबोच लिया और जबरन दुष्कर्म के बाद निर्मम हत्या कर दी।

इस हत्याकांड के बाद सीतापुर में कई दिनों तक बवाल चलता रहा। शिक्षकों ने न्याय के लिए आंदोलन भी किए। मामले को लेकर जब पुलिस पर दबाव पड़ा तो फरार चल रहे आरोपी सुरेश उर्फ बाबा पर 20 हजार रुपए का इनाम घोषित कर दिया गया। कुछ दिनों बाद उसे इटौजा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और जेल भेज दिया।

आज कोर्ट से मिला न्याय

पुलिस ने मामले में अपराध संख्या 849/2009 धारा 376, 302, 404, 201 के तहत केस दर्ज कर कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी थी। 11 वर्ष बाद आज कोर्ट नंबर 12 के जज अभिषेक उपाध्याय ने दोषी सुरेश को आजीवन कारावास के साथ ही 50 हजार रुपए आर्थिक दंड की सजा सुनाई। शासकीय अधिवक्ता मो. असलम ने बताया कि यह कड़ी मेहनत और लगन का फल है कि एक महिला की हत्या और बलात्कार में आरोपी को कड़ी सजा सुनाई गई है। शिक्षिका के पति का कहना है कि उन्हें आज कोर्ट न्याय मिला है। अब जाकर उनकी पत्नी की आत्मा को शांति मिलेगी।

खबरें और भी हैं...