सीतापुर...डीएम ने निरीक्षण के दौरान लगाई अफसरों को फटकार:गौशाला और प्राथमिक विद्यालय का किया औचक निरीक्षण,कमियां मिलने पर कई अफसरों को मिली फटकार

सीतापुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीतापुर में डीएम ने निरीक्षण के दौरान बच्चों से की बातचीत - Dainik Bhaskar
सीतापुर में डीएम ने निरीक्षण के दौरान बच्चों से की बातचीत

सीतापुर में डीएम ने जिलाधिकारी अनुज सिंह ने विकास खण्ड खैराबाद क्षेत्र में स्थित सरैंया सानी अस्थाई गौआश्रय स्थल का आकस्मिक निरीक्षण कर व्यवस्थाएं देखी। निरीक्षण के दौरान पशुओं के लिये की गयी व्यवस्थाओं के साथ-साथ चारे की उपलब्धता एवं पेयजल की व्यवस्था का भी निरीक्षण किया। पशुओं के लिये पर्याप्त शेड का प्रबंध न होने एवं हरे चारे का पर्याप्त प्रबंध न होने पर खण्ड विकास अधिकारी खैराबाद को कड़ी फटकार लगाते हुये जवाब तलब किया है और मानकों के अनुरूप समस्त प्रबंध सुनिश्चित कर अवगत कराये जाने के निर्देश भी दिये। निरीक्षण में व्यवस्थाएं मानकों के अनुरूप न मिलने पर ग्राम प्रधान को भी फटकार लगायी।

पशुओं के चारे के रूप में प्रयोग होने वाली नेपियर घास के सूखनें पर भी जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की और डीसी मनरेगा को कड़े निर्देश दिये कि गौआश्रय स्थल की समस्त व्यवस्थाएं पूर्ण कराये जाने हेतु आवश्यक प्रबंध सुनिश्चित करें। डीएम के निरीक्षण के दौरान मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी द्वारा व्यवस्थाओं का पर्यवेक्षण न करने तथा गौआश्रय स्थल की व्यवस्थाएं ठीक न मिलने पर मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को फटकार भी लगायी।

निरीक्षण के दौरान डीएम खाद्य सामग्री चेक करते हुए
निरीक्षण के दौरान डीएम खाद्य सामग्री चेक करते हुए

प्राथमिक विद्यालय का किया निरीक्षण

डीएम ने प्राथमिक विद्यालय सरैंया चौकी का आकस्मिक निरीक्षण कर व्यवस्थाएं दको देखा। इस दौरान डीएम ने छात्रों एवं अध्यापकों की उपस्थिति, विद्यालय के प्रबंधन, स्वच्छता, स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता, शौचालय, रसोईघर आदि का निरीक्षण किया। डीएम ने बच्चों की कम उपस्थिति पर नाराजगी व्यक्त करते हुये घर-घर बुलावा टोली भेजकर तथा अभिभावकों को प्रेरित कर शतप्रतिशत उपस्थिति सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये है। शौचालय की सफाई कराये जाने के निर्देश दिये है। डीएम ने पूर्व प्रधान द्वारा विद्यालय परिसर में बनवाये गये शौचालय के अधोमानक होने के कारण टूटने पर नाराजगी व्यक्त करते हुये जांच कराकर रिकवरी कराये जाने के निर्देश दिये और प्राथमिक विद्यालय के बाहर पड़े कूड़े के ढेर का तत्काल निस्तारण कराये जाने के निर्देश दिये और साथ ही उपजिलाधिकारी को निर्देशित किया कि विद्यालय गेट पर कूड़ा फेकनें वालों के विरूद्ध सुसंगत धाराओं में कार्यवाही की जाये।

असफरों को लगाई फटकार

डीएम ने स्कूल के निरीक्षण के दौरान बच्चों से वार्ता कर उन्हें बेहतर शिक्षा प्राप्त करने तथा स्वच्छता की आदतों को अपनाने के लिये प्रेरित किया और साथ ही समय-समय पर हाथ धोने, नाखून काटने, नियमित रूप से स्नान कर विद्यालय आने तथा पूर्ण ड्रेस पहनने के लिये भी प्रेरित किया। डीएम ने बच्चों से कविताएं सुनने के साथ-साथ गणित के सवाल भी बच्चों से हल कराये। रसोई घर में लकड़ी से खाना बनाने, मानक के अनुसार सामग्री न मिलने पर एवं खराब गुणवत्ता का नमक प्रयोग करने पर प्रधान शिक्षिका रूबिना बानों को फटकार लगाते हुये स्पष्टीकरण तलब किया।

डीएम ने खण्ड शिक्षा अधिकारी शाहीन अंसारी द्वारा नियमित रूप से निरीक्षण न किये जाने पर फटकार भी लगायी एवं नियमित निरीक्षण करने के निर्देश दिये। ग्राम प्रधान को विद्यालय हेतु एलपीजी गैस सिलेण्डर की व्यवस्था करने हेतु भी निर्देशित किया। विद्युत तथा पंखे की उपलब्धता के साथ-साथ बच्चों के बैठनें के लिये बेंच का प्रबंध सुनिश्चित करने के निर्देश भी जिलाधिकारी ने दिये। निरीक्षण के दौरान बेसिक शिक्षा अधिकारी अजीत कुमार, डीसी मनरेगा सुशील कुमार श्रीवास्तव सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...