घोरावल में पुलिस और वन विभाग की संयुक्त कार्रवाई:चाचा-भतीजा करवा रहे थे पत्थर का अवैध खनन, छापेमारी में 25 ट्राली बोल्डर बरामद

घोरावल10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

घोरावल थाना क्षेत्र के हिनौता गांव के पास मध्यप्रदेश सीमा से सटी पहाड़ी पर अवैध खनन का मामला सामने आया है। यह खनन गांव के ही चाचा-भतीजा की अगुवाई में कराया जा रहा था। जब यह जानकारी प्रशासन के पास पहुंची तो हड़कंप मच गया। शुकवार को प्रशासन, पुलिस और वन विभाग की संयुक्त टीम ने यहां छापेमारी की। मौके से 25 ट्रैक्टर बोल्डर बरामद किया गया। इससे पहले एक ट्रैक्टर बोल्डर का अवैध परिवहन करता भी पाया गया था जिसे अवैध खनन कर्ता लेखपाल को धमकाकर छुड़ा ले गए थे।

मामले में घोरावल थाने के दारोगा आशीष कुमार पटेल की तहरीर पर चाचा भतीजा सहित छह के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी गई है। लंबे समय बाद क्षेत्र में हुई इस तरह की कार्रवाई ने हड़कंप मच गया। चौकी प्रभारी शिवद्वार आशीष कुमार पटेल ने थाने में दर्ज कराई एफआईआर में बताया क्षेत्रीय लेखपाल इंदुशेखर त्रिपाठी ने सूचना दी कि संजय सिंह निवासी हिनौती द्वारा ट्रैक्टर ट्राली पर अवैध पत्थर लादकर परिवहन किया जा रहा है।

सूचना देने के बाद लेखपाल ने ट्रैक्टर रोककर पूछताछ की तो उसका चालक लल्लू निवासी हिनौती, पत्थर को वहीं सड़क पर गिरा कर भाग गया। मामले की जनकारी एसडीएम को दी गयी । इस पर उन्होंने प्रशासन, पुलिस और वन विभाग की टीम गठन करने के साथ ही, स्वयं भी मौके पर पहुंचे। जांच की गई तो पता चला कि संजय सिंह और उनके चाचा कप्तान सिंह की जमीन पर लगभग 25 ट्राली बोल्डर रखा हुआ है। जानकारी करने पर पता चला कि उसे पास में स्थित मध्यप्रदेश की सीमा पर स्थित पहाड़ी की चोटी से तोड़कर लाया गया है।

वहां मिले बोल्डर को जब्त कर हिनौती प्रधान के संरक्षण में देते हुए, कार्रवाई शुरू कर दी गई। मामले में संजय सिंह, उनके चाचा कप्तान सिंह, चालक लल्लू के अलावा दो-तीन अज्ञात के खिलाफ आईपीसी की धारा 147, 332, 379, 411, 504, 506 तथा खान एवं खनिज अधिनियम 1957 की धारा 4 और 21, सार्वजनिक संपत्ति निवारण अधिनियम 1984 की धारा 3 और चार के तहत मामला दर्ज किया गया है।

खबरें और भी हैं...