पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Sonbhadra
  • Initiative Is Taken To Make The Government Aware Of The Real Condition Of Brahmins, Former Minister Vinod Tiwari Said That Many Families Are Below Poverty Line

सोनभद्र में परशुराम यात्रा का शुभारंभ:सरकार को ब्राह्मणों की वास्तविक स्थिति से अवगत कराने की है पहल, पूर्व मंत्री विनोद तिवारी ने कहा कि गरीबी रेखा के नीचे हैं कई परिवार

सोनभद्र6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सोनभद्र में परशुराम यात्रा का शुभारंभ। - Dainik Bhaskar
सोनभद्र में परशुराम यात्रा का शुभारंभ।

सोनभद्र में राष्ट्रीय ब्राह्मण युवजन सभा की ओर से ब्राह्मण प्रतिनिधि सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे राष्ट्रीय अध्यक्ष भृगुवंशी आशुतोष पाण्डेय व विशिष्ट अतिथि थे डॉ विनोद तिवारी पूर्व स्वास्थ्य मंत्री प्रदेश अध्यक्ष प्रतीक त्रिपाठी जी रहे। कार्यक्रम मे जिले भर से आए लगभग 500 लोग आए। पूर्व मंत्री विनोद तिवारी ने कहा कि लोग इस भ्रम में हैं कि ब्राह्मण समाज में सब सुखी और सम्पन्न हैं। जबकि स्थिति इससे उलट है।

ब्राह्मणों को नहीं मिलते शिक्षा व रोजगार के भरपूर अवसर
रावटसगंज के स्वामी विवेकानंद प्रेक्षागृह में रविवार को यह आयोजन हुआ है। पूर्व मंत्री विनोद तिवारी ने कहा कि बड़ी संख्या में ऐसे ब्राह्मण परिवार हैं जो गरीबी रेखा के नीचे हैं। उन्हें सवर्ण होने के चलते शिक्षा व रोजगार के उचित अवसर नहीं मिल रहे। यहां तक कि समाज में उचित सम्मान भी नहीं मिल पा रहा। सरकार को ब्राह्मणों की वास्तविक स्थिति से अवगत कराने के लिए ही इस सम्मेलन का आयोजन किया गया है।

कार्यक्रम की फोटो।
कार्यक्रम की फोटो।

स्वर्ण आरक्षण का किया स्वागत
मुख्य अतिथि आशुतोष पाण्डेय ने कहा कि संगठन उन्हें कमियां और अपनी मांगें बताए और वह उन्हें भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तक पहुंचाएंगे। साथ ही ब्राह्मणों के उत्थान के लिए अपनी ओर से आर्थिक मदद भी करेंगे। सम्मेलन में केन्द्र सरकार द्वारा सवर्णों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण का स्वागत भी किया गया। साथ ही यह मांग भी उठी कि इसमें थोड़े और सुधार की जरूरत है। ऐसा हो पाया तो बेरोजगारी में कमी जरूर आ जाएगी। सम्मेलन में आए पदाधिकारियों का यह भी कहना था कि प्रदेश में अपराधों का शिकार हो रहे ब्राह्मणों को उचित न्याय नहीं मिल रहा। वहीं अन्य जातियों के लिए कानून में अलग से प्राविधान है। इसमें बदलाव होना चाहिए।