सोनभद्र में कैमुना बैंक ने लगाया डेढ़ करोड़ का चूना:मैनेजर व स्टाप फरार, बैंक एफडी व आरडी का ही कार्य करती थी

सोनभद्र2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सोनभद्र के रेणुकूट क्षेत्र पिपरी, रेणुकूट, मुर्धवा, खाड़पाथर समेत कई गांव के गरीब लोग पिपरी थाने में पहुंचकर धोखाधड़ी व जालसाजी का तहरीर देकर न्याय की गुहार लगाई है। आरोप है कि कैमुना क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसाइटी कंपनी के शाखा प्रबंधक ने क्षेत्र के साथ साथ कई गांवों में करीब 2 करोड़ से अधिक धोखाधड़ी करके फरार है। इन लोगों ने कम समय में पैसा दो गुना की बात कर ठगी की है।

2015 में खुली थी कंपनी, एफडी व आरडी का ही कार्य करती थी
कैमुना क्रेडिट को ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड की शाखा रेणुकूट में 2015 में खुला था। यह कंपनी अधिकतर एफडी व आरडी का ही कार्य करती थी। जो सोनभद्र जिले के निजी बैंकों में एक बड़े बैंक के रूप में कार्य संचालित था।

कोरोना काल के दौरान ही कंपनी कलेक्शन न मिलने पर फरार
दरअसल, कारोना काल के दौरान ही कंपनी को कलेक्शन न मिलने पर फरार हो गई थी। लेकिन इसकी जानकारी शाखा प्रबंधक ने संबंधित एजेंटों और अपने ग्राहकों को नहीं दी। डेली कलेक्शन व फिक्स डिपाजिट का कार्य जारी रहा। क्षेत्र के कई लोगों का जब एफडी पूरा हुआ तो प्रबन्धक द्वारा जवाब सही न देने पर रेणुकूट ऑफिस का चक्कर लगाने लगे। ग्राहकों के पहुंचने पर ऑफिस में हमेशा ताला लगा रहता था। भागने की जानकारी होने पर पता चला कि पिछले 6 महीने से मैनेजर नगर छोड़कर फरार हैं। इस ठगी को लेकर नगर में माहौल गर्म है।

स्थानीय लोगों ने दी तहरीर
स्थानीय नगर से रीता श्रीवास्तव, प्रज्ञा दुबे, सुनीता पाण्डेय, प्रिया सिंह, जमीला बानो, सम्मा देवी, माला सिंह, सम्भू राम, राम आशीष सिंह आदि लोगों ने पुलिस को तहरीर देकर कार्रवाई की मांग किया है। इस संबंध में पिपरी थानाध्यक्ष दिनेश पांडे से बात किया गया तो उन्होंने बताया कि तहरीर मिली है कार्रवाई हो रही है।