गैंगस्टर के दो दोषियों को ढाई साल की कैद:अदालत ने 5-5 हजार का लगाया अर्थदंड, जुर्माना नहीं देने पर 10 की अतरिक्त होगी कैद

सोनभद्र3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सोनभद्र में अपर सत्र न्यायाधीश व विशेष न्यायाधीश गैंगेस्टर एक्ट आशुतोष कुमार सिंह की अदालत ने मंगलवार गैंगस्टर एक्ट के मामले में लालजी गोड़ और दिलीप कुमार केवट को दोषी पाया। अपर सत्र न्यायाधीश ने दोनों दोषियों को ढाई साल की कैद और 5-5 हजार का अर्थदंड लगाया। अर्थदंड नहीं देने पर 10-10 दिन की अतिरिक्त कैद भुगतनी होगी। जेल में बिताई गई अवधि सजा में समाहित होगी।

अभियोजन पक्ष के मुताबिक शक्तिनगर कोतवाल अंजनी कुमार राय 16 मई 2020 को पुलिस बल के साथ क्षेत्र में निकले थे। तभी पता चला कि गैंग लीडर संजय सिंह उर्फ टिप्पा का सक्रिय गिरोह है। गिरोह के सक्रिय सदस्य लालजी गोड़ और दिलीप कुमार केवट निवासी सिम्प्लेक्स कालोनी विन्ध्यनगर, सिंगरौली मध्यप्रदेश हैं। जो इस क्षेत्र में अपने लाभ एवं सक्रिय सदस्यों के लाभ के लिए गैर कानूनी कार्य करते हैं। इनका क्षेत्र में वर्चस्व कायम है। इनके विरुद्ध कोई भी शिकायत करने एवं गवाही देने की हिम्मत नहीं जुटा पाता है।

दोनों पक्षों को सुनने के बाद जज ने सुनाया फैसला
डीएम से अनुमोदन कराने के बाद गैंग चार्ट दाखिल किया गया है। मामले की सुनवाई करते हुए अदालत ने दोनों पक्षों के अधिवक्ताओं के तर्कों को सुनने, गवाहों के बयान एवं पत्रावली का अवलोकन करने पर दोषसिद्ध पाकर दोषियों लालजी गोड़ एवं दिलीप कुमार केवट को सजा सुनाई। अभियोजन पक्ष की ओर से शासकीय अधिवक्ता धनंजय शुक्ला ने बहस की।

खबरें और भी हैं...