सुलतानपुर में किसानों ने किया प्रदर्शन:गन्ना चीनी मिल में भेजे न जाने से हैं नाराज, गन्ना फूंककर किया प्रदर्शन

सुलतानपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
किसानों ने गन्ना जलाकर किया प्रदर्शन। - Dainik Bhaskar
किसानों ने गन्ना जलाकर किया प्रदर्शन।

सुलतानपुर में एक अदद चीनी मिल है। वर्तमान में बीजेपी सांसद मेनका गांधी के दिवंगत पति संजय गांधी ने यह तोहफा यहां के लोगों को दिया था। लेकिन अधिकारियों की लापरवाही से मिल सालों से घाटे में है।

अब जब गन्ने का नया सत्र शुरु हुआ है, तो किसानों का गन्ना यहां की चीनी मिल में नहीं भेजकर बाराबंकी स्थित हैदरगढ़ चीनी मिल में भेजा रहा। जिससे आक्रोशित किसानों ने गन्ना अधिकारी के ऑफिस के सामनें गन्ना फूंक कर प्रदर्शन किया है।

गन्ना बाहर गया तो रेल रोक देंगे

जिले का गन्ना बाराबंकी जिले के हैदरगढ़ चीनी मिल भेजे जाने की व्यवस्था के खिलाफ किसान भड़क गए। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के मंडल अध्यक्ष गुड्डू सिंह के नेतृत्व में जिला पंचायत के मुख्य गेट पर किसानों ने गन्ना जलाया।

जिसके बाद तीन चौकी इंचार्ज गन्ना अवशेष हटाने में जुट गए। किसानों ने गन्ना अधिकारी के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे लगाए और अल्टीमेटम दिया कि जिले से बाहर गन्ना गया तो वो रेल रोकेंगे।

जिला प्रशासन के खिलाफ की नारेबाजी

सुल्तानपुर में राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के कार्यकर्ताओं द्वारा करीब एक सप्ताह से गन्ना अधिकारी कार्यालय के सामने जिला पंचायत परिसर में अपनी मांगों को लेकर धरना प्रदर्शन किया जा रहा था।

आज किसानों ने डीएम और एसडीएम से मुलाकात की, लेकिन कोई संतोषजनक जवाब न मिलने पर जिन किसानों में आक्रोश जाग उठा। वापस धरना स्थल पहुंचकर इन किसानों ने गन्ना अधिकारी कार्यालय के पास गन्ना फूंक कर अपना विरोध प्रदर्शन जताया। गन्ना अधिकारी समेत जिला प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की।

32 माह से नहीं मिला वेतन

चीनी मिल के कर्मचारी पूर्वांचल किसान सहकारी चीनी मिल मजदूर संघ के बैनर तले प्रदर्शन कर रहे हैं। कर्मचारियों ने बताया कि नया सत्र कल से शुरु हो गया है और हम लोगों को 32 माह से वेतन तक नहीं मिला।

धन अभाव के चलते कई कर्मचारी व उनके परिवार के सदस्यों की इलाज के अभाव में अब तक मृत्यु हो चुकी है। परिवार भुखमरी की कगार पर आ गया है।

खबरें और भी हैं...