सुलतानपुर में गिराया गया 40 साल पहले बना द्वार:बारी संघ ने बनवाया था, बीजेपी विधायक पर दूसरा द्वार लगवाने का लगाया आरोप

सुलतानपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
40 साल पहले करवाया गया था निर्माण। - Dainik Bhaskar
40 साल पहले करवाया गया था निर्माण।

सुलतानपुर में सीताकुंड घाट पर चार दशक पहले बारी संघ द्वारा बनवाए गए द्वार को ढहाने का मामला तूल पकड़ गया है। उत्तर प्रदेश राज्य बारी संघ ने सुलतानपुर से ग्रामीण अभियंत्रण सेवा पर द्वार ढहाने और बीजेपी विधायक पर उस जगह दूसरे नाम से द्वार बनवाने का आरोप लगाते हुए सीएम और डीएम से हस्तक्षेप की मांग की है।

लोगों में है गुस्सा

बारी समाज के जिलाध्यक्ष पुनीत कुमार रावत ने बताया कि 25 अक्टूबर 1980 को बारी समाज के गौरव शिरोमणि रूपन बारी की स्मृति में सीताकुंड घाट पर मुख्य द्वार निर्मित कराया गया था। समाज के तत्कालीन अध्यक्ष कनैहया लाल के नेतृत्व में उक्त द्वार निर्मित हुआ था।

जिसका लोकार्पण सरकार के तत्कलीन मंत्री जगदीश प्रसाद ने किया था। तब से यह द्वार गौरव के प्रतीक के रुप में स्थापित रहा। लेकिन किसी सूचना के बगैर द्वार गिरा दिया गया। इससे समाज में रोष है।

डीएम को पत्र भेजकर की शिकायत

डीएम रवीश गुप्ता के माध्यम से सीएम को भेजे पत्र में पुनीत रावत और उनके समाज के लोगों ने हस्ताक्षर करते हुए आरोप लगाया है कि ग्रामीण अभियंत्रण सेवा द्वारा द्वार गिरा दिया गया। अब विधायक उक्त द्वार के स्थान पर नाम बदलकर दूसरा द्वार लगवाने की कवायद कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...