स्कूल जाने को पानी में घुसकर निकल रहे बच्चे:सुल्तानपुर में गोमती में बाढ़ से 20 स्लूकों में भरा पानी, जान जोखिम में डालकर पढ़ने जा रहे बच्चे; दो हजार ने आना किया बंद

सुल्तानपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूल जाने को पानी में घुसकर न� - Dainik Bhaskar
स्कूल जाने को पानी में घुसकर न�

सुल्तानपुर जिले में गोमती नदी में आई बाढ़ से कछार वाले इलाकों में परिषदीय विद्यालय जलमग्न हो गए हैं। करीब 20 स्कूलों में जलभराव की वजह से पढ़ाई बंद है। लगभग दो हजार बच्चे स्कूल नहीं आ पर रहे हैं। कुछ बच्चे घुटनों तक पानी में होकर स्कूल पहुंचने को मजबूर हैं। बच्चों के हौसले को देखते हुए कुछ शिक्षक भी स्कूल पहुंच रहे हैं ताकि बच्चों की पढ़ाई का नुकसान न होने पाए। वहीं अन्य शिक्षक आसपास के स्कूलों में जाकर अपनी हाजिरी लगा रहे हैं।

स्कूल परिसर में भरा बाढ़ का पानी।
स्कूल परिसर में भरा बाढ़ का पानी।

बीएसए ने जल निकासी के दिए निर्देश

बता दें कि जिले में बीते दिनों हुई बारिश आफत बन चुकी है। यहां के तराई क्षेत्र के कई गांव जहां जलमग्न हैं तो वहीं कई प्राइमरी स्कूल भी चारों तरफ से पानी से घिरे हैं। ऐसे में बच्चों को घुटनों तक पानी में होकर स्कूल आना पड़ा रहा है। वहीं कई बच्चों ने तो स्कूल आना ही बंद कर दिया है। बीएसए दीवान सिंह यादव के बताया कि जिन विद्यालयों में बारिश का पानी जमा है, वहां के प्रधानाध्यापक को निर्देश दिया गया है कि ग्राम प्रधान एवं ग्राम पंचायत सचिव से मिलकर जल निकासी की व्यवस्था सुनिश्चित कराएं। बाढ़ग्रस्त इलाकों के बच्चों को पास के स्कूल में अध्ययन की सुविधा दी जाएगी। कुड़वार ब्लॉक के प्राइमरी विद्यालय मझवारी में बच्चे घुटनों तक पानी में चलकर स्कूल आने को मजबूर हैं। प्रधानाध्यापक मोहम्मद मोईन ने बताया कि स्कूल में पानी एकाएक बढ़ा है, जिससे स्कूल जलमग्न हो गया है। करीब 62 बच्चे पानी के बीच से ही होकर स्कूल आ रहे हैं।

परिसर एवं कमरे पूरी तरह से जलमग्न

गोमती नदी का जलस्तर बढ़ने से स्कूल पानी से घिरा है। इसी ब्लॉक के उच्च प्राथमिक विद्यालय नौगवां में 72 विद्यार्थी नामांकित हैं। बाढ़ के पानी से विद्यालय में पूरी तरह जलभराव है। इसकी वजह से पठन-पाठन बंद है। प्रधानाध्यापक राम गोविंद तिवारी ने बताया कि जलभराव की वजह से परिसर एवं कमरे पूरी तरह से जलमग्न हैं। कादीपुर ब्लॉक के हुसुनपुर प्राथमिक विद्यालय में जलभराव से पठन-पाठन की व्यवस्था में समस्या उत्पन्न हो गई है। परिसर पूरी तरह से जलमग्न है। इसकी वजह से बच्चों को अभिभावक स्कूल नहीं भेज रहे हैं। शिक्षक किसी तरह विद्यालय परिसर में पहुंच पा रहे हैं।

पानी के बीच बच्चों को स्कूल छोड़ने जाते उनके परिजन।
पानी के बीच बच्चों को स्कूल छोड़ने जाते उनके परिजन।

किसी तरह विद्यालय पहुंच रहे बच्चे

कुड़वार क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय नौगवां माधवपुर में गोमती नदी के बाढ़ का पानी जमा हुआ है। कमर तक जमा पानी से होकर शिक्षक विद्यालय पहुंच रहे हैं। विद्यालय में 35 छात्र पंजीकृत हैं। प्रधानाध्यापक प्रखर श्रीवास्तव, सहायक अध्यापक अरुण बरनवाल, अरुणा आंबेडकर किसी तरह स्कूल परिसर में दाखिल हो पा रहे हैं। कुड़वार के हकुहा प्राथमिक विद्यालय में भी बारिश का पानी भरा हुआ है। प्रधानाध्यापक सुमिरन विश्वकर्मा बताते हैं कि बारिश के पानी से विद्यालय में आवाजाही बाधित हो गई है। इसकी वजह से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है।

खबरें और भी हैं...