• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Sultanpur
  • Court Appearance Of AAP MP Sanjay Singh In Sultanpur: 13 Years Ago, There Was An Allegation Of Assault With A Clerk In The Deputy Registrar's Office, The Case Was Registered In Kotwali Nagar

सुल्तानपुर में आप सांसद संजय सिंह की कोर्ट में पेशी:13 साल पहले उप निबंधक ऑफिस में क्लर्क से मारपीट का आरोप, कोतवाली नगर में दर्ज हुआ था मामला

सुल्तानपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
क्लर्क की शिकायत पर कोतवाली नगर में मारपीट का मुकदमा दर्ज हुआ था। - Dainik Bhaskar
क्लर्क की शिकायत पर कोतवाली नगर में मारपीट का मुकदमा दर्ज हुआ था।

आप सांसद संजय सिंह की सुल्तानपुर के एमएलए विशेष कोर्ट में बुधवार को पेशी हुई है। दरअसल, 13 साल पहले उप निबंधक ऑफिस के क्लर्क राम सागर से मारपीट का आरोप है। क्लर्क की शिकायत पर कोतवाली नगर में मारपीट का मुकदमा दर्ज हुआ था। जिसके बाद उन्होंने 24 अगस्त 2017 को कोर्ट में सरेंडर भी किया था।

क्या है मामला?

शहर के गभड़िया निवासी और मौजूदा समय में आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह पांच जून 2007 को सदर तहसील के रजिस्ट्री ऑफिस में अपने भाई के विवाह का रजिस्ट्रेशन कराने गए थे। रजिस्ट्री ऑफिस के दलित लिपिक राम सागर ने अभिलेख अपूर्ण होने पर उन्हें दोबारा आने को कहा था। आरोप है कि संजय सिंह व उनके साथ गए दो अन्य आरोपियों ने लिपिक पर हमलाकर जातिसूचक शब्दों से उसे अपमानित किया था। कोतवाली नगर में लिपिक राम सागर की तहरीर पर पुलिस ने आप नेता संजय सिंह, गभड़िया निवासी अनिल द्विवेदी व शहर के निरालानगर निवासी आशुतोष सिंह व एक अज्ञात के खिलाफ हमला करने, दलित उत्पीड़न के अभियोग में मुकदमा दर्ज किया था।

विवेचक रहे तत्कालीन सीओ सिटी राम चरन ने 29 अगस्त 2007 को तीनों नामजद आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की थी। जिसके बाद संजय सिंह ने सीजेएम कोर्ट में सरेंडर किया था। बाद में उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया गया था।

जारी हुआ था गैर जमानती वारंट

सीजेएम ने नौ अप्रैल 2008 को चार्जशीट पर संज्ञान लेने के बाद तीनों आरोपियों के खिलाफ समन जारी कर तलब किया था। कोर्ट ने 22 जून 2009 को आरोपियों के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया गया था। फिर भी कोर्ट में हाजिर नहीं होने पर तीन फरवरी 2016 को सीजेएम ने आप नेता समेत तीनों आरोपियों के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर दिया था। इसमें अनिल द्विवेदी और आशुतोष सिंह का नाम विवेचना से हटा दिया गया था।

खबरें और भी हैं...